सोशल: 'बिना राम मंदिर निर्माण के योगी सरकार को कोई नंबर नहीं'

  • 19 मार्च 2018
इमेज कॉपीरइट TWITTER/YOGI

उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की सरकार को एक साल पूरा हो गए है.

बीते एक साल में योगी सरकार कई बातों को लेकर चर्चा में रही.

इनमें एंटी रोमियो स्क्वॉड से लेकर गोरखपुर उपचुनाव में हार भी शामिल है.

अब जब सरकार को एक साल पूरा हो चुका है तो हमने बीबीसी हिंदी पाठकों से दो सवाल पूछे.

पहला सवाल: योगी सरकार के एक साल को एक शब्द में बताइए.

दूसरा सवाल: योगी सरकार को आप कितने नंबर देंगे?

इन दोनों सवालों पर हमें हज़ारों लोगों की प्रतिक्रियाएं मिलीं. हम आपको यहां कुछ चुनिंदा कमेंट्स पढ़वा रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट AFP

एक शब्द में योगी सरकार का एक साल...

  • गोबर: गौरव खन्ना
  • बाबा जी का ठुल्लू: पीके गुप्ता
  • शानदार: अनुराग तिवारी
  • गोमूत्र: अरुण कुमार जैन
  • गाय सरकार: मोहित बिश्नोई
  • परिवर्तन: योगेश शेखर
  • अनुपयोगी: शादाब
  • गोलमाल: भानु प्रताप शर्मा
  • पकौड़ा: कमलेंद्र शुक्ला
  • अराजकता: पितांबर शर्मा
  • भ्रष्टाचार रहित: दिब्यांश शुक्ला
  • विन-पेट्रोल: गौरव सेनी
  • दिशाविहीन:आशीष तिवारी
  • पेंटर: राहुल यादव
  • ऑक्सीजन: अज़ीज़
इमेज कॉपीरइट TWITTER/YOGI

योगी सरकार को कितने नंबर...

आरके शर्मा लिखते हैं, "100 में से 100 नंबर मिलेंगे योगी आदित्यनाथ को. योगी जैसे ईमानदार आदमी की तारीफ करनी बनती है."

प्रिया सिंह ने लिखा, "गोरखपुर और फूलपुर में 100 में से 100. योगी सरकार के एक साल को जनता का करारा जवाब मिला है."

इंस्टाग्राम पर अहमद ने लिखा, "एक भी बाल न उगा पाए योगी. फिर भी 10 नंबर देता हूं."

अनिला पाठक लिखते हैं, "मैं यूपी से हूं और 55 नंबर दूंगा. योगी अखिलेश से थोड़े बेहतर हैं लेकिन ज़्यादा नहीं."

अरविंद त्रिपाठी कमेंट करते हैं, "योगी जो हैं, वही हैं. वोट के लिए किसी धर्म की झूठी तारीफें करने के लिए 100 में से 5 लाख नंबर."

मधु मिश्रा माइनस डबल ज़ीरो नंबर योगी सरकार को देती हैं.

आदर्श झा लिखते हैं, "जब तक राम मंदिर नहीं बनेगा. मैं एक भी नंबर नहीं दूंगा."

ट्विटर पर चंदन लिखते हैं, "जब नेताओं के सारे केस की फाइलें बंद की जा रही हैं तो अपराध मुक्त तो होगा ही. मेरी तरफ से हजार नंबर."

ललित कुमार ने लिखा, "ज़ीरो से नीचे कौन सा अंक दिया जा सकता है?"

योगी सरकार के पांच वादे, कितने पूरे कितने अधूरे?

योगी के गढ़ में अपनों ने ही दिया झटका?

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए