क्या बीजेपी के आईटी सेल को पहले से पता थी कर्नाटक चुनाव की तारीख़?

भाजपा इमेज कॉपीरइट Getty Images

कर्नाटक विधानसभा चुनाव की तारीख़ों का आधिकारिक ऐलान चुनाव आयोग करता, इससे पहले ही बीजेपी की आईटी सेल के प्रमुख अमित मालवीय ने एक ट्वीट में लिखा कि कर्नाटक में 12 मई, 2018 को मतदान होगा और वोटों की गिनती 18 मई को होगी.

अमित मालवीय के इस ट्वीट में मतगणना की तारीख़ 18 मई लिखी गई थी, जबकि चुनाव आयोग के मुताबिक़ कर्नाटक में मतगणना 15 मई को होगी.

लेकिन मतदान की तारीख़ के बारे में उनका ट्वीट बिल्कुल सही था. चुनाव आयोग ने कहा है कि कर्नाटक में 12 मई को मतदान होगा.

एक 'गुप्त सरकारी सूचना' जो उस समय तक सार्वजनिक नहीं की गई थी, अमित मालवीय को कैसे पता थी?

अमित मालवीय ने इसे लेकर अपना बचाव पेश किया और एक टीवी न्यूज़ चैनल का हवाला दिया है.

लेकिन क्या ऐसी संवेदनशील सूचना जारी करने पर अमित मालवीय के ख़िलाफ़ कोई कार्रवाई हो सकती है? सोशल मीडिया पर इससे जुड़े तमाम सवाल पूछे जा रहे हैं.

'उचित कार्रवाई'

मंगलवार को हुई प्रेस कॉन्फ़्रेंस में मुख्य चुनाव आयुक्त ओम प्रकाश रावत से जब मालवीय के ट्वीट के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, "चुनाव से जुड़ी कुछ संवेदनशील जानकारी लीक हुई है. इसके ख़िलाफ़ चुनाव आयोग उचित कार्रवाई करेगा."

लेकिन चुनाव आयोग की घोषणा से पहले ही ये जानकारी अमित मालवीय के पास कैसे थी? इस बारे में बीबीसी ने अमित मालवीय से बात की.

अमित मालवीय का कहना है कि इस बारे में फ़िलहाल वो कुछ नहीं कह सकते.

अमित मालवीय ने अपना ट्वीट भी हटा दिया है.

जो ट्वीट मालवीय ने हटा दिया

इमेज कॉपीरइट Twitter

लेकिन सोशल मीडिया पर जब अमित मालवीय से कुछ पत्रकारों ने ये सवाल पूछा कि किस हवाले से उन्होंने ये सूचना जारी की तो उन्होंने एक प्राइवेट न्यूज़ चैनल की ब्रेकिंग न्यूज़ का हवाला दिया.

आम आदमी पार्टी के मीडिया सलाहकार अरुणोदय प्रकाश, कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला समेत कई वरिष्ठ पत्रकारों ने ये सवाल किए हैं कि घोषणा किए जाने से पहले चुनाव आयोग जिन सूचनाओं के गुप्त होने का दावा करता है, वो सूचना भाजपा के आईटी सेल के संचालक को कैसे मिल गई?

सोशल मीडिया पर बहुत से लोग अमित मालवीय के अपने ट्वीट को हटाने का मज़ाक भी बना रहे हैं.

अमित मालवीय के अपने विवाद

इससे पहले भी अमित मालवीय अपने ही खड़े किए विवादों में घिर चुके हैं.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption कर्नाटक के मुख्यमंत्री सिद्धारमैया

उन्होंने इसी साल 9 जनवरी को सोशल मीडिया पर कर्नाटक के मुख्यमंत्री सिद्धारमैया का एक विवादित वीडियो पोस्ट किया था और उनके चरित्र पर आरोप लगाए थे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)