सोशलः 'आसाराम अब 'बापू' नहीं 'बलात्कारी''

आसाराम इमेज कॉपीरइट Getty Images

धर्मगुरु आसाराम को जोधपुर अदालत ने एक नाबालिग लड़की से बलात्कार के मामले में दोषी ठहराते हुए आजीवन कारवास की सज़ा सुनाई है.

77 साल के आसाराम एक अन्य महिला के बलात्कार के मामले में भी अभियुक्त हैं जिसका मुकदमा अलग से चल रहा है.

आसाराम पर सज़ा का ऐलान होने के साथ ही ट्विटर पर आसाराम से जुड़े बहुत से हैशटेग टॉप ट्रेंड करने लगे जैसे आसाराम वर्डिक्ट, आसाराम केस वर्डिक्ट, आसाराम बापू, आसाराम कन्विक्टेड.

पश्चिमी दिल्ली से बीजेपी सांसद परवेश साहिब सिंह ने ट्वीट किया, ''कोई भी कानून से ऊपर नहीं है, आज न्याय की जीत हुई है.''

इमेज कॉपीरइट Twitter

कांग्रेस ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का एक पुराना वीडियो ट्वीट किया है जिसमें वे आसाराम की तारीफ करते हुए सुने जा सकते हैं.

इस ट्वीट के साथ लिखा गया है, ''एक व्यक्ति की पहचान उसकी संगत से ही होती है.''

इमेज कॉपीरइट Twitter

कैप्टन सुधीर दीक्षित ने ट्वीट किया, ''राजा से रंक तक...साधू से पापी तक...आसाराम बापू से हे राम तक. न्याय का चक्का धीमा ज़रूर चलता है लेकिन वह न्याय मिलता ज़रूर है.

इमेज कॉपीरइट TWITTER

ध्रुव राठी ने ट्वीट किया, ''अब वे अभियुक्त नहीं एक बच्ची के बलात्कारी हैं. उन 9 गवाहों को सलाम जिन्होंने जान की परवाह किए बिना अपनी गवाही दी.''

इमेज कॉपीरइट TWITTER

कई लोगों ने आसाराम के साथ राजनेताओं की पुरानी तस्वीरें भी सोशल मीडिया पर साझा की हैं. ऐसी ही एक फेसबुक पोस्ट में जयंत जिज्ञासु ने लिखा है, ''महासंत पूज्यापाद श्री आसाराम बापू जी के तीन परम शिष्य''

इमेज कॉपीरइट TWITTER

सरसिज नयनम ने ट्वीट किया है, ''तो अब हम आधिकारिक रूप से आसाराम बापू जी के नाम से राम, बापू और जी हटा सकते हैं...वे किसी भी अन्य बलात्कारी की तरह साधू के कपड़ों में एक बलात्कारी ही हैं.''

इमेज कॉपीरइट Twitter

आसाराम के अलावा शिवा, शरतचंद्र, शिल्पी और प्रकाश इस मामले में अभियुक्त थे.

अदालत ने शिल्पी और शरतचंद्र को 20- 20 साल कैद की सज़ा सुनाई. अदालत ने प्रकाश और शिवा को बरी कर दिया.

शरतचंद्र छिंदवाड़ा आश्रम के डायरेक्टर थे जहां नाबालिग लड़की पढ़ाई करती थी. शिल्पी छिंदवाड़ा आश्रम की वॉर्डन थीं.

ये भी पढ़ेंः

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे