पीएम मोदी, त्रिपुरा के सीएम बिप्लब देब मिलेंगे तो क्या बतियाएंगे?

  • 2 मई 2018
मोदी और बिप्लब देब इमेज कॉपीरइट Twitter/BJP/BBC

मीडिया में ऐसी ख़बरें हैं कि त्रिपुरा के मुख्यमंत्री बिप्लब देब और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की बुधवार को मुलाकात हो सकती है.

माना जा रहा है कि ये मुलाकात हाल के दिनों में बिप्लब देब के बयानों की वजह से रखी गई है. बिप्लब देब ने बीते कुछ दिनों में ये चर्चित बयान दिए थे.

  • ''महाभारत काल में भी इंटरनेट और सैटेलाइट की सुविधा उपलब्ध थी.
  • भारतीय महिलाओं की ख़ूबसूरती की नुमाइंदगी ऐश्वर्या राय करती हैं ना कि डायना हेडन.
  • नौकरी के लिए पार्टियों के पीछे भागते युवा अगर पान की दुकान शुरू करें तो बैंक अकाउंट में लाखों रुपये हो जाएं.
  • मेरे विचार से जो लोग मैकेनिकल इंजीनियरिंग से आते हैं उन्हें सिविल सेवा परीक्षा नहीं देनी चाहिए. बल्कि सिविल इंजीनियरों को देनी चाहिए.''

द टेलीग्राफ की ख़बर के मुताबिक़, बुद्ध पूर्णिमा पर देब ने कहा, ''गौतम बुद्ध नंगे पैर जापान, म्यांमार, तिब्बत की यात्राओं पर गए.'' कोलकाता के प्रेसीडेंसी कॉलेज के पूर्व प्रोफेसर सुभाष रंजन कहते हैं, ''बुद्ध ने कभी इन देशों की यात्रा नहीं की.''

ऐसे में देब के बयानों और पीएम मोदी से मुलाकात की ख़बरों को लेकर हमने बीबीसी हिंदी के पाठकों से सवाल पूछा,

इस सवाल पर हमें दिलचस्प जवाब मिले. हम यहां कुछ चुनिंदा कमेंट्स पेश कर रहे हैं.

मोदी-देब मिलेंगे तो क्या बात करेंगे?

आशीष कुमार लिखते हैं, ''दोनों में बात होगी कि सिर्फ MukherJEE, ChatterJEE और BanerJEE को ही JEE(IIT) की परीक्षा देनी चाहिए.''

ज़ाकी मोहम्मद ने लिखा, ''मोदी कहेंगे- भाई तूने तो मेरा भी रिकॉर्ड तोड़ दिया.''

कमेंटबॉक्स में कुछ गालियों के साथ भगत सिंह की प्रोफाइल पिक्चर लगाए मुकेश पाठक ने लिखा, ''***** पहली बार पता चला कि त्रिपुरा भारत का हिस्सा है. वरना अब तक माणिक सरकार क्या कर रहे थे. किसी को ख़बर नहीं होती थी.''

इस गाली वाले कमेंट को हम इस उम्मीद में यहां छाप रहे हैं कि अगली बार वो या कोई और कमेंटबॉक्स में गाली नहीं लिखेगा.

बीबीसी हिंदी की इसी इंस्टाग्राम पोस्ट पर ज्योति ने लिखा, ''यही बोलेंगे कि एश्वर्या राय के अलावा भी सुंदर लोग हैं. आप सबका दिल न तोड़ो देब.''

गुड्डु लिखते हैं, ''खूब जमेगा रंग जब मिल बैठेंगे पीएम और सीएम. बेरोजगारों तैयार हो जाओ. रोज़गार के नए-नए आइडिया आने वाले हैं. वैसे कुछ मिले न मिले, मज़ा भरपूर देगी ये जोड़ी.''

सोनू शर्मा ने लिखा, ''मोदी देब को हड़काकर कहेंगे- मुख्यमंत्री बनाया है, मुख्यमंत्री की तरह रह. ज़्यादा प्रधानमंत्री बनने की ज़रूरत नहीं है.''

इमेज कॉपीरइट Twitter

मोहित जैन लिखते हैं, ''अगर देरी हुई तो मोदी वजह पूछेंगे कि फ्लाइट देर से आई क्या? जवाब में देब बोलेंगे- नहीं सर, पुष्पक विमान शुरू नहीं हो रहा था.''

प्रवीण कुमार लिखते हैं, ''मोदी कहेंगे- मैंने पकौड़े बेचने के लिए कहा और तुमने पान बेचने को बोला.''

उत्पल ने लिखा, ''मोदी कहेंगे कि भाई थोड़ा कम बोला कर. कुछ दिनों के लिए मनमोहन मोड पर चले जाओ. बिप्लब देब कहेंगे- सर आपसे ही तो सीखा है.''

धर्मेंद्र सिंह ने लिखा, ''मोदी देब से कहेंगे कि तुम मेरे असाइनमेंट पर अच्छा काम कर रहे हो. इसी तरह लोगों का मनोरंजन करते रहो.''

ट्विटर पर किशोर लिखते हैं, ''उच्च स्तरीय मंथन करेंगे कि यूपीएससी सिविल सर्विस में सिविल इंजीनियरों को छोड़कर बाकी लोगों को इसमें आने से कैसे रोका जाए.''

कुछ ऐसे भी एक जैसे कमेंट्स रहे, जिन्हें कई लोगों ने लिखा. इनमें ये कुछ कमेंट्स शामिल हैं.

  • 'मोदी: तुम तो फेंकने में मुझसे भी आगे निकले देब.
  • दोनों मिलकर नए जुमलों की खोज करेंगे.
  • पान की दुकान बेहतर या पकौड़े की.
  • यार तुम तो मुझसे भी आगे बढ़ रहे हो.''

बिप्लब देब: एक नेता के पीए थे, अब मुख्यमंत्री

'इंटरनेट का आविष्कार महाभारत काल में हुआ था'

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए