सोशल- मोदी को ट्विटर पर दी सलाह, ‘थोड़ा सा मुस्कुराइये बाकी सब मस्त है’

  • 22 जुलाई 2018
नरेंद्र मोदी इमेज कॉपीरइट Getty Images

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ट्विटर पर ख़ासे सक्रिय रहते हैं, ये बात अब किसी से छिपी नहीं है. वह गाहे-बगाहे किसी न किसी बड़ी हस्ती को जन्मदिन की बधाई से लेकर अपनी सरकार की नीतियों और उपलब्धियों के बारे में ट्वीट करते रहते हैं.

शुक्रवार को संसद में विपक्ष के अविश्वास प्रस्ताव के दौरान दिए गए उनके भाषण पर सोशल मीडिया पर कई लोगों ने अपनी प्रतिक्रिया दी है. कई यूजर्स ने उनके भाषण की तारीफ़ की है तो कई उन्हें सलाह देने से भी नहीं चूके. #IndiaTrustsModi जैसे हैशटैग सोशल मीडिया पर ट्रेंड करने लगे.

रविवार को मोदी ने आम लोगों के ट्वीट्स का जवाब दिया. सबसे पहले उन्होंने अनंत सुब्रह्मण्यम नामक यूज़र के ट्वीट का जवाब दिया.

यूज़र ने अपनी बेटी के स्वच्छता अभियान से संबंधित अंग्रेज़ी में लिखे निबंध को ट्वीट किया था. इसको रीट्वीट करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लिखा, "मुझे यह पढ़कर प्रसन्नता हुई. मेरी तरफ़ से उन्हें बधाई दीजिए. स्वच्छता को लेकर हमारे युवाओं में ऐसे उच्च स्तर की जागरूकता और जुनून देखना अद्भुत है."

प्रधानमंत्री ने इसके बाद एक अगले ट्विटर हैंडल का जवाब दिया. शोभा नामक यूज़र ने ट्वीट कर उन्हें अविश्वास प्रस्ताव की बहस के दौरान भाषण के लिए शुभकामनाएं दी. यूज़र ने लिखा कि उनका भाषण ज़बरदस्त और आंकड़ों के साथ था.

प्रधानमंत्री ने रीट्वीट करते हुए उनका शुक्रिया किया.

यही नहीं किसी ट्विटर यूज़र ने प्रधानमंत्री से अपनी निजी बातें भी साझा कीं तो किसी ने उन्हें सलाह भी दी.

शिल्पी अग्रवाल ने लिखा, "सिर्फ़ एक चीज़ मोदीजी, आपको अक्सर मुस्कुराते रहना चाहिए. बाकी सब मस्त है."

इसका भी प्रधानमंत्री मोदी ने जवाब दिया और लिखा कि बात नोट कर ली गई है और इसके बाद उन्होंने एक स्माइली बनाया.

अनुभव चतुर्वेदी ने ट्वीट कर अपना दुख मोदी से साझा किया. उन्होंने लिखा, "नरेंद्र मोदी जी, संसद में आपके भाषण ने मुझे मेरे दादा के साथ आपका भाषण सुनने की याद दिला दी. 16 जुलाई को उनका निधन हो गया. वह वास्तव में आपसे और आपकी हाज़िरजवाबी से प्रेम करते थे."

इस पर प्रधानमंत्री ने ट्वीट किया कि उन्हें यह जानकर बेहद दुख हुआ और ऐसे दुख के क्षण में उनकी संवेदनाएं उनके साथ हैं.

गणेश शंकर ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय भाषण के बाद अगले दिन शनिवार को उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर में भाषण देने की तारीफ़ की. उन्होंने 60 से 70 की आयु में थकान न होने पर हैरत जताई थी.

इस पर मोदी ने रीट्वीट किया, "125 करोड़ भारतीयों का आशीर्वाद मुझे शक्ति देता है. मेरा पूरा समय राष्ट्र के लिए है."

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस मौके पर बेशक आम लोगों के ट्वीट का जवाब दिया हो, लेकिन उनकी विपक्ष और सोशल मीडिया पर कई बार आलोचना भी होती रही है कि वह कई मुद्दों पर चुप रहते हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे