राहुल गांधी की कैलाश मानसरोवर यात्रा पर क्यों मचा हंगामा

  • 7 सितंबर 2018
कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी इमेज कॉपीरइट Twitter/@INCIndia
Image caption राहुल गांधी की तस्वीर को कांग्रेस के ट्विटर हैंडल से ट्वीट किया गया है

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की कैलाश मानसरोवर यात्रा पर उठ रहे सवालों के बीच कांग्रेस ने शुक्रवार को अपने ट्विटर हैंडल से राहुल गांधी का फ़िटबिट डेटा जारी किया.

कांग्रेस ने उनके पैदल चलने के आंकड़े के साथ ही कैलाश पर्वत के सामने ली गई उनकी तस्वीर को भी पोस्ट किया.

फ़िटबिट ऐप के आंकड़े के अनुसार, राहुल गांधी 463 मिनटों में 34.31 किलोमीटर पैदल चले हैं जो कुल 46,433 कदम होते हैं.

इस ट्वीट के साथ ही कांग्रेस ने तंज़ भी कसा है. ट्वीट में लिखा गया है, "नफ़रत करने वालों को पीछे छोड़ते हुए, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कैलाश यात्रा के दौरान यह गति पकड़ी है. क्या आप इससे ऊपर उठ सकते हो?"

इसके अलावा समाचार एजेंसी एएनआई ने राहुल गांधी की अन्य तीर्थयात्रियों के साथ तस्वीरों को साझा किया.

इस ट्वीट के बाद केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने राहुल गांधी की एक अन्य तीर्थयात्री के साथ तस्वीर को साझा करते हुए कहा कि यह फ़ोटोशॉप है.

इस पर उमाशंकर सिंह नामक ट्विटर हैंडल ने ट्वीट किया कि मोदी के मंत्री कितने ख़ाली हैं कि राहुल गांधी की छड़ी की परछाई ढूंढ रहे हैं.

हालांकि, राहुल गांधी की पैदल यात्रा के आंकड़े साझा करने पर ट्विटर पर भी कई लोगों ने मज़े लिए.

गीतिका नामक ट्विटर हैंडल ने ट्वीट किया है कि अगर आप कितने कदम चले यही प्रधानमंत्री बनने का पैमाना होता तो वह टट्टू प्रधानमंत्री बनता जिस पर राहुल गांधी यात्रा कर रहे थे.

अनंत कृष्णन ने ट्वीट किया, "तिब्बत कार्यक्रम का राहुल गांधी ने स्क्रीनशॉट साझा किया है और वह चाइना यूनिकॉम सेल नेटवर्क में हैं. आशा है कि यह वह फोन न हो जो वह हमेशा इस्तेमाल करते हैं वरना चीन के रक्षा मंत्रालय के पास उनकी सभी जानकारी होंगी."

वहीं, राहुल की इस यात्रा को कांग्रेसी नेता भी ख़ूब भुनाने में लगे हैं. कांग्रेस प्रवक्ता प्रियंका चतुर्वेदी ने बीजेपी पर निशाना साधते हुए ट्वीट किया, "परम शिव भक्त, राहुल गांधीजी जिन्हें बीजेपी के ढोंगी हिंदुओं को उजागर करने के लिए भगवान शिव द्वारा ख़ुद निर्देशित किया जा रहा है."

इन सभी ट्वीट्स के अलावा राहुल गांधी ने ख़ुद कैलाश मानसरोवर यात्रा की कई तस्वीरें ट्वीट की हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे