प्रियंका गांधी: रॉबर्ट वाड्रा ने महासचिव बनाए जाने पर क्या कहा

  • 23 जनवरी 2019
प्रियंका गांधी इमेज कॉपीरइट Getty Images

2019 आम चुनावों के तहत कांग्रेस पार्टी ने प्रियंका गांधी को सियासी मैदान में उतारा है. कांग्रेस पार्टी ने प्रियंका को पार्टी का महासचिव बनाया है और उन्हें पूर्वी उत्तर प्रदेश की ज़िम्मेदारी सौंपी है.

इमेज कॉपीरइट INC COMMUNIQUE

प्रियंका गांधी ये ज़िम्मेदारी फरवरी 2019 से के पहले हफ़्ते से संभाल लेंगी. प्रियंका को जहां पूर्वी उत्तर प्रदेश की ज़िम्मेदारी सौंपी गई है, वहीं ज्योतिरादित्य सिंधिया को पश्चिमी उत्तर प्रदेश की ज़िम्मेदारी सौंपी गई है.

इस संबंध में पत्रकारों से बात करते हुए राहुल गांधी ने कहा, "प्रियंका और ज्योतिरादित्य को यूपी दो महीने के लिए नहीं भेजा है. मैंने इस मिशन के साथ दोनों को यूपी भेजा है कि सबके विकास के लिए वो काम करें. ताकि यूपी के युवा को जो चाहिए वो दे सकें. मुझे काफी खुशी है कि मेरी बहन बहुत कर्मठ और सक्षम हैं. हम यूपी की जनता को कहना चाहते हैं कि आपने अब बहुत समय वक़्त ज़ाया किया है. अब आप बीजेपी को हटाइए. हम यूपी को नंबर-1 प्रदेश बनाएँगे"

इमेज कॉपीरइट Getty Images

हालांकि प्रियंका के चुनाव लड़ने के संदर्भ में राहुल ने कोई टिप्पणी नहीं की और कहा कि ये उनका अपना फ़ैसला होगा.

हालांकि प्रियंका को सक्रिय राजनीति में लाने की मांग बहुत दिनों से हो रही थी. सोशल मीडिया पर भी प्रियंका गांधी की नियुक्ति को लेकर मिली-जुली प्रतिक्रियाएं आ रही हैं.

प्रियंका गांधी के पति और उद्योगपति रॉबर्ट वाड्रा ने उन्हें बधाई देते हुए लिखा है "बधाई पी...मैं तुम्हारी ज़िंदगी के हर क़दम पर तुम्हारे साथ हूं. अपना बेहतरीन देना..."

इमेज कॉपीरइट Robert Vadra/Facebook

जनता दल (यूनाइटेड) के उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर ने ट्वीट किया है

"अंतत: भारतीय राजनीति की बहुप्रतीक्षित एंट्री अब हो गई है. हो सकता है कि लोग उनको सक्रिय राजनीति में लाने के समय को लेकर टिप्पणी करें, उनके रोल और पद को लेकर सवाल हो सकते हैं लेकिन मेरे लिए सबसे बड़ी ख़बर ये है कि प्रियंका ने फ़ाइनली ये फ़ैसला किया. प्रियंका गांधी को बधाई और शुभकामनाएं."

नलिनी- 'प्रियंका गांधी बहुत गुस्सा हो गई थीं'

राहुल गांधी को कैसे मिला ‘कौल’ गोत्र?

वहीं बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा ने प्रियंका गांधी के महासचिव चुने जाने को 'राज्याभिषेक' कहा है. पत्रकारों से बातचीत में उन्होंने कहा कि बहन प्रियंका गांधी को राजनीति में ले आना कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की नाकामी है.

इसके अलावा एक बार फिर उन्होंने कांग्रेस पार्टी पर परिवारवाद को बढ़ावा देने वाला कहा है. उन्होंने कहा "नया भारत लोकतंत्र में यक़ीन करने वाला है. बीजेपी के लिए पार्टी ही परिवार है लेकिन कांग्रेस के लिए परिवार मतलब पार्टी."

बीजेपी नेता शहनवाज़ हुसैन ने ट्वीट किया है, "प्रियंका गांधी ने कांग्रेस के लिए साल 2009 और 2014 में भी प्रचार किया था. तो ऐसे में ये कहना कि सक्रिय राजनीति में वो अब आई हैं ये कुछ ऐसा ही है नई बोतल में पुरानी शराब. भारतीय मतदाता बहुत समझदार है और बहुत अच्छे से जान रहा है कि आने वाले चुनावों को लेकर कांग्रेस नर्वस हो गई है."

बीजेपी उत्तर प्रदेश के ट्विटर हैंडल से भी एक ट्वीट किया गया है. "ख़बर: प्रियंका गांधी वाड्रा को कांग्रेस का महासचिव चुना गया है और उन्हें पूर्वी उत्तर प्रदेश की ज़िम्मेदारी सौंपी गई है. हो सकता है वो रायबरेली से चुनाव लड़ें."

लोगों की प्रतिक्रिया...

ये भी पढ़ें...

प्रियंका गांधी सक्रिय राजनीति में, कांग्रेस ने बनाया महासचिव

प्रियंका का पर्दे के पीछे रहना क्या कांग्रेस की रणनीति है?

कांग्रेस की राजनीति में परदे के पीछे सक्रिय प्रियंका गांधी

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार