भारत की तीसरी एयर स्ट्राइक्स कौन सी थी?

  • 10 मार्च 2019
इमेज कॉपीरइट Rajnath Singh @Facebook

गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा है कि बीते पांच सालों में भारत ने अपनी सीमा के बाहर जा कर तीन बार एयर स्ट्राइक्स यानी हवाई हमले किए हैं.

कर्नाटक के मैंगलोर में भाजपा कार्यकर्ताओं की एक रैली को संबोधित करते हुए राजनाथ सिंह ने कहा, "पिछले पांच वर्षों में तीन बार अपनी सीमा के बाहर जा कर हमने एयर स्ट्राइक्स कर कामयाबी हासिल की है."

उन्होंने कहा "मैं आपको दो की जानकारी दूंगा लेकिन तीसरे की जानकरी मैं आपको नहीं दूंगा."

पहले एयर स्ट्राइक्स की तरफ़ इशारा करते हुए उन्होंने कहा, "एक बार उरी में हमारे सेना के 17 जवानों पर रात में पाकिस्तान की धरती से आकर आतंकवादियों ने कायराना हमला कर के उनकी जानें ले लीं. इसके बाद जो कुछ भी हुआ आपको अच्छी तरह जानकारी है."

राजनाथ सिंह ने कहा, "दूसरी एयर स्ट्राइक पुलवामा हमले के बाद हुई है. तीसरी की जानकारी मैं आपको नहीं दूंगा."

राजनाथ सिंह के भाषण के कुछ घंटे बाद प्रधानमंत्री मोदी उत्तर प्रदेश के ग्रेटर नोएडा में एक रैली को संबोधित कर रहे थे.

उन्होंने भी आतंक के ख़िलाफ़ एयर स्ट्राइकस का ज़िक्र किया और कहा कि भारत ने दो एयर स्ट्राइकस की हैं.

उनके इस बयान को लेकर सोशल मीडिया में कई लोग चर्चा कर रहे हैं.

ऑल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लिमीन के नेता असदउद्दीन ओवैसी ने इस पर तंज़ कसा है, "क्या आप उस वक़्त की बात कर रहे हैं जब मोदी बिना न्योते के पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ़ के घर शादी में शरीक होने चले गए थे."

शादाब नियाज़ी ने लिखा कि ये मच्छरों वाली सर्जिकल स्ट्राइक होगी जो रात में होती है.

नौशाद ख़ान ने लिखा कि तीसरा सर्जिकल स्ट्राइक तो बिरयानी पर हमला था.

एक अन्य ट्विटर यूज़र ने लिखा कि जैसा की राजनाथ सिंह ने कहा है दो हमले तो नरेंद्र मोदी ने की और एक नीरव मोदी ने की.

जय प्रकाश यादव ने लिखा कि देश को दो ही सर्जिकल स्टराइक के बारे में जानकारी है और अब गृह मंत्री कह रहे हैं कि तीन स्ट्राइक हुआ है.

ओंकार नाथ यादव ने लिखा कि गृहमंत्री सर्जिकल स्ट्राइक के बारे में तो बता रहे हैं लेकिन भारत के कितने सैनिक शहीद हुए हैं ये नहीं बता रहे हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए