सोशल: अंबाति रायुडू ने वर्ल्ड कप देखने के लिए ख़रीदा थ्री डी चश्मा

  • 16 अप्रैल 2019
इमेज कॉपीरइट Getty Images

वर्ल्ड कप के लिए 15 सदस्यीय टीम में जगह नहीं बना पाने वाले अंबाति रायुडू ने कुछ घंटे पहले एक ट्वीट किया है और उनका ये ट्वीट सोशल मीडिया में चर्चा का विषय बना हुआ है.

अंबाति रायुडू ने अपने ट्वीट में लिखा है, "वर्ल्ड कप देखने के लिए अभी अभी थ्री डी चश्मे का सेट ऑर्डर किया है."

इसके बाद उनके इस ट्वीट पर ढेरों लोग प्रतिक्रिया दे रहे हैं.

दरअसल, सोमवार को वर्ल्ड कप की टीम का एलान होने से पहले माना जा रहा था कि अंबाति रायुडू की जगह पक्की है, उन्हें नंबर चार बल्लेबाज़ के तौर पर टीम में जगह दी जा रही थी.

इसकी पुख्ता वजह भी थी, पिछली 20 इंटरनेशनल पारियों में 14 बार अंबाति रायुडू नंबर चार बल्लेबाज़ के तौर पर खेले और इसमें उन्होंने एक शतक और दो अर्धशतक सहित 464 रन बनाए.

बीते साल अक्टूबर महीने में ही कप्तान कोहली ने कहा था कि रायुडू के होने से टीम इंडिया का नंबर चार बल्लेबाज़ की समस्या हल चुकी है.

लेकिन टीम के मुख्य चयनकर्ता एमएसके प्रसाद ने टीम के ऐलान के बाद मीडिया से बातचीत करते हुए कहा था, "2017 की चैंपियंस ट्राफी के बाद हमने नंबर चार बल्लेबाज़ के तौर पर कई खिलाड़ियों को आजमाया. हमने रायुडू को भी कुछ मौके दिए. विजय शंकर थ्री डायमेंशनल हैं. वे बल्लेबाज़ी कर सकते हैं, गेंदबाज़ी कर सकते हैं और अच्छे फ़ील्डर हैं. हम उन्हें नंबर चार बल्लेबाज़ के तौर पर देख रहे हैं."

इस पर सोशल मीडिया पर दिलचस्प प्रतिक्रियाएं आ रही हैं.

सागर नाम के एक यूज़र ने एक मीम शेयर किया है, जिस पर लिखा है, 'क्या से क्या हो गया देखते देखते'

इमेज कॉपीरइट Twitter

हिमांशु झा ने लिखा है, 'मेरी सलाह है कि हाइलाइट्स या सिर्फ स्कोरकार्ड देखना बंद कर दीजिए. पूरे मैच देखिए और फिर तय कीजिए कि टीम के लिए कौन फ़िट है. रायुडू उपयोगी खिलाड़ी नहीं हैं. जब विश्व कप इंग्लैंड में हो रहा है तो उनकी जगह नहीं बनती.'

इमेज कॉपीरइट Twitter

अक्षय ने लिखा है, 'रायुडू का अंतरराष्ट्रीय करियर ख़त्म हो गया. वह शानदार प्रतिभा के धनी हैं लेकिन अंतरराष्ट्रीय स्तर पर बड़ा करने से चूक गए.'

इमेज कॉपीरइट Twitter

क्रिकेट वर्ल्ड कप 2019: ऋषभ पंत बाहर, विजय शंकर अंदर क्यों

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे