रॉबर्ट वाड्रा 'पराग्वे के झंडे पर वोट' डालकर लोकसभा चुनाव के छठे चरण में क्यों हुए ट्रोल? - सोशल

  • 12 मई 2019
रॉबर्ट वाड्रा इमेज कॉपीरइट TWITTER

प्रियंका गांधी वाड्रा के पति रॉबर्ट वाड्रा लोकसभा चुनाव के छठे चरण में वोट डालने के बाद कुछ लोगों के निशाने पर आ गए.

रॉबर्ट वाड्रा ने ट्विटर पर वोट डालने के बाद की सेल्फी पोस्ट की. हालांकि ये अकाउंट ब्लू टिक यानी वैरिफाइड नहीं है.

इस पोस्ट में रॉबर्ट ने लिखा, ''हमारा अधिकार, हमारी ताकत. आप सब वोट कीजिए. हमें अपने प्रिय लोगों के बेहतर भविष्य के लिए उन लोगों की मदद करने की ज़रूरत है, जो हमारे देश को धर्मनिरपेक्ष और सुरक्षित बनाएं.''

इमेज कॉपीरइट Twitter

इस ट्वीट में रॉबर्ट ने जो झंडा बनाया, वो भारत की बजाय पराग्वे का था. जब लोगों की इस पर नज़र गई तो लोगों ने स्क्रीनशॉट लेकर रॉबर्ट का मज़ाक उड़ाना शुरू कर दिया.

इसके बाद रॉबर्ट ने ये ट्वीट डिलीट किया और कुछ देर पहले किए ट्वीट में अपनी सफाई पेश की.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

रॉबर्ट वाड्रा ने क्या कहा?

तिरंगे वाली तस्वीरों के साथ रॉबर्ट ने अपने ट्वीट में लिखा, ''भारत मेरे दिल में है और मैं तिरंगे को सलाम करता हूं. मेरी पोस्ट में पराग्वे का झंडे का दिखना महज़ एक चूक थी. मैं बहुत अच्छे से जानता हूं कि आपको पता होगा कि ये गलती से हुआ है. कई ज़रूरी मुद्दों जिन पर बात करने की ज़रूरत है, इसके बावजूद अगर आपने तय कर लिया है कि मेरी ग़लती पर चुटकियां लेनी हैं. ये बात मुझे उदास करती है. पर कोई बात नहीं.''

रॉबर्ट वाड्रा भले ही अब सफाई दे रहे हों लेकिन पराग्वे ट्विटर पर टॉप ट्रेंड है. लोग रॉबर्ट वाड्रा पर तंज कस रहे हैं.

पत्रकार निधि राज़दान ने लिखा- आपने जो लिखा वो प्यारा है लेकिन ये झंडा पराग्वे का है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

आगे पढ़िए किसने क्या लिखा?

अंशुमाली लिखते हैं, ''जहां से ज़मीन सस्ती मिले. वहीं से वोट करेंगे.''

राहुल ने लिखा, ''बताइए रॉबर्ट को अपने देश का झंडा तक नहीं मालूम.''

@GLSHARM40304871 ट्विटर हैंडल से लिखा गया- इनको ये भी नहीं मालूम कि भारत का झंडा कौन सा है. ये गलती इनकी है या उन वोटर्स की जो कांग्रेस को वोट देते रहे हैं.

जब तिरंगे के साथ रॉबर्ट ने अपनी सफाई पेश की तो कुछ लोगों की इस पर भी प्रतिक्रियाएं आईं.

डोनाल्ड नाम के यूज़र ने लिखा, 'हम सभी ग़लती करते हैं लेकिन आपको एहसास होने में 5 घंटे लगे. पब्लिक प्लेटफॉर्म में कुछ भी बोलने से पहले सोचा करिए.''

धर्मेंद्र ने लिखा, ''आर यू सीरियस. आर यू सीरियस.''

संतोष लिखते हैं, ''इसे निजी तौर पर मत कीजिए. कुछ बातों में मस्ती भी करनी चाहिए.''

आलोक ने लिखा, ''भाई शॉर्ट में बोलना चाहिए था कि हमको माफी दे दो.''

@sushrut_oza ने तंज किया, ''पराग्वे अपनी ज़मीन बचा लो.''

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूबपर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार