पाकिस्तानी पीएम इमरान ख़ान ने क्या सऊदी किंग का अपमान किया

  • 3 जून 2019
इमरान ख़ान इमेज कॉपीरइट PTI Pakistan

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान ख़ान की सोशल मीडिया पर ख़ूब आलोचना हो रही है.

कहा जा रहा है कि मक्का में ऑर्गेनाइजेशन ऑफ़ इस्लामिक कोऑपरेशन (ओआईसी) के सम्मेलन में सऊदी अरब के किंग से मुलाक़ात के दौरान इमरान ख़ान ने उनका अनादर किया.

इमरान ख़ान का एक वीडियो सामने आया है जिसमें वो रेड कार्पेट पर चलते हुए सऊदी अरब के बादशाह सलमान तक पहुंचते हैं और उनसे हाथ मिलाने के बाद कुछ बात करते हैं. हालांकि जो वीडियो फुटेज सामने आया है उसमें पाकिस्तानी पीएम किंग से सीधे बात न कर ट्रांसलेटर से बात कर रहे हैं.

इमरान ख़ान हाथ तो किंग सलमान से मिला रहे हैं लेकिन बात ट्रांसलेटर से कर रहे हैं. सोशल मीडिया पर शेयर किए गए वीडियो में इमरान ख़ान किंग सलमान की तरफ़ देख भी नहीं रहे हैं. यहां तक कि इमरान ख़ान ने किंग सलमान को प्रतिक्रिया में कुछ कहने का भी वक़्त नहीं दिया और वहां से अचानक निकल गए.

सोशल मीडिया पर लोगों का कहना है कि इमरान ख़ान ने किंग सलमान का अनादर किया है और उन्हें राजनयिक शिष्टाचार भी नहीं पता है. कई लोग तो सलाह दे रहे हैं कि पाकिस्तान के नेताओं को राजनयिक व्यवहार सीखने की ज़रूरत है.

लंदन की महिलावादी एक्टिविस्ट शमा जुनेजो ने ट्विटर पर लिखा है, ''इस व्यक्ति को कोई डिप्लोमैसी के सिद्धांतों का थोड़ा भी ज्ञान दे. सुनने में आया है कि सऊदी किंग ने इमरान ख़ान के साथ बैठक रद्द कर दी है क्योंकि वो ख़ान के ऊटपटांग व्यवहार से नाराज़ हैं. मैं उम्मीद करती हूं यह एक अफ़वाह हो क्योंकि हमें सऊदी से अभी बहुत कुछ मांगना है.''

नायला इनायत ने लिखा है, ''यह अपमान से भी आगे का मामला है. पीएम इमरान ख़ान आए और किंग सलमान से कुछ कहा. उनकी बातों को अनुवादक किंग सलमान तक पहुंचाता और किंग कुछ जवाब देते तभी अचानक इमरान ख़ान वहां से निकल गए. इमरान ख़ान को राजनयिक शिष्टाचार सीखने की ज़रूरत है.''

ट्विटर पर दावा किया जा रहा है कि दोनों नेताओं के बीच द्विपक्षीय बैठक होनी थी लेकिन किंग सलमान ने इमरान ख़ान के कथित अपमानजनक व्यवहार से ख़फ़ा होकर रद्द कर दी. मक्का में ओआईसी के 14वें सत्र का आयोजन किया गया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे