इमरान खान के मंत्री ने भारतीय सेना के पंजाबी जवानों को बगावत के लिए 'उकसाया'

  • 13 अगस्त 2019
इमरान ख़ान के मंत्री ने भारतीय सेना के पंजाबी जवानों को बगावत के लिए उकसाया

पाकिस्तान के विज्ञान और टेक्नोलॉजी मंत्री चौधरी फवाद हुसैन ने भारतीय सेना में तैनात पंजाबी जवानों को भड़काने वाला विवादित ट्वीट किया है. ये ट्वीट भारत प्रशासित कश्मीर से धारा 370 हटाए जाने के संबंध में किया गया है.

चौधरी फवाद हुसैन ने ट्विटर पर लिखा, "मैं भारतीय सेना के सारे पंजाबी जवानों से अपील करता हूं कि वो अन्याय/ज़ुल्म का हिस्सा बनने से इनकार कर दें और कश्मीर में ड्यूटी ना करें."

इमेज कॉपीरइट Twitter

उन्होंने अपने ट्वीटर हैंडल पर ये बात पंजाबी भाषा में लिखी. गुरुमुखी लिपि में लिखे गए इस ट्वीट का अंग्रेज़ी में भी अनुवाद किया गया है.

इसके बाद चौधरी फवाद हुसैन ने हिंदी में एक ट्वीट किया कि पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान 14 अगस्त को पाकिस्तान प्रशासित कश्मीर की विधानसभा को संबोधित करेंगे.

इमेज कॉपीरइट Twitter

इन ट्वीट का जवाब भारत की राजधानी दिल्ली में राजौरी गार्डन से अकाली दल के विधायक मनजिंदर सिंह सिरसा ने दिया.

उन्होंने अपना वीडियो बयान ट्वीट कर लिखा, "पंजाबी में एक ट्वीट कर देने से आप शुभ-चिंतक नहीं बन जाते."

उन्होंने पाकिस्तान के मंत्री चौधरी फवाद हुसैन को जवाब देते हुए कहा कि आपने अपने शब्दों से पंजाबियों को ठेस पहुंचाई है. उन्होंने कहा कि पंजाबी असली देशभक्त हैं.

उन्होंने अपने वीडियो में कहा, "शायद आप पंजाबियों की फितरत को नहीं जानते. हमसे बड़ा कोई देश परस्त नहीं हो सकता. हम देश के लिए अपनी जान देने वाले लोग हैं. आपका ये ट्वीट हमें तकलीफ देने वाला है. आप अपने मुल्क की बात करें. आप अपनी हिफाज़त की बात करें. आप अपने मुल्क के लिए दुआ भी करें, लेकिन भारत हमारा मुल्क है और हमारे मुल्क के खिलाफ आपने, खासकर पंजाबी लिपि का इस्तेमाल करके आप हमारी भावनाओं को भड़का सकते हैं, तो आप गलत सोचते हैं. हम देश भक्त लोग हैं. हमारी ये आर्मी देश के लिए लड़ने वाली है. हमारी जान जा सकती है, लेकिन इस देश पर आंच नहीं आ सकती."

सिरसा ने कहा, "हमने इस देश के लिए जान दी है और इस देश के लिए जान दे सकते हैं. और इस देश के लिए हम किसी की जान ले भी सकते हैं. इसलिए मैं आपको बताना चाहता हूं कि आपका ये ट्वीट बहुत ही भद्दा है. अलफाज़ों के साथ-साथ आपने जिस भाषा का इस्तेमाल किया है, उसका हमें खेद है, क्योंकि जो पंजाबी लिपि आपने इस्तेमाल की है, उसका हमें अफसोस है."

मनजिंदर सिंह सिरसा के इस ट्वीट पर कई लोगों ने प्रतिक्रिया दी.

कट्टर हिन्दू नाम के ट्विटर हैंडल ने उनकी तारीफ में लिखा, "ये है एक सच्चे सरदार का मुंह तोड़ जवाब."

रवि खंडेलवाल ने लिखा, "हमें आप पर गर्व है सर." ऐसे ही कई कमेंट उनके ट्वीट पर किए गए.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूबपर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार