KBC11: अमिताभ पर क्यों लगा शिवाजी का अपमान करने का आरोप?

  • 8 नवंबर 2019
अमिताभ बच्चन इमेज कॉपीरइट AMITABH BACCHAN/ TWITTER

सोनी टीवी को अपने लोकप्रिय शो कौन बनेगा करोड़पति के एक एपिसोड की वजह से लोगों के गुस्से का सामना करना पड़ रहा है. ट्विटर पर #Boycott_KBC_SonyTV ट्रेंड कर रहा है.

इस हैशटेग का इस्तेमाल करने वालों का कहना है कि अमिताभ बच्चन ने केबीसी शो में छत्रपति शिवाजी का अपमान किया है.

दरअसल बुधवार को टेलीकास्ट हुए केबीसी के एपिसोड में शो के होस्ट अमिताभ बच्चन ने एक कंटेस्टेंट से सवाल पूछा, ''इनमें से कौन से शासक मुग़ल सम्राट औरंगज़ेब के समकालीन थे?''

इस सवाल के चार विकल्पों के तौर पर ''महाराणा प्रताप, राणा सांगा, महाराजा रणजीत सिंह और शिवाजी'' दिए गए.

इमेज कॉपीरइट SONY TV SCREEN GRAB
Image caption केबीसी के दौरान अमिताभ बच्चन

ट्विटर पर केबीसी, अमिताभ और सोनी टीवी की आलोचना करने वालों का कहना है कि केबीसी के निर्माताओं ने औरंगज़ेब के नाम के आगे मुग़ल सम्राट लगाया लेकिन शिवाजी के नाम के आगे छत्रपति नहीं लगाया. इसे शिवाजी के अपमान के तौर पर देखा जा रहा है.

अभिजीत जाधव ने केबीसी के उसी सवाल का स्क्रीनशॉट लगाकर पोस्ट किया है, ''यह बहुत ही दुखद और शर्मनाक है. छत्रपति शिवाजी महाराज ने इतना कुछ किया और हम उनके काम का सम्मान ही नहीं करते, इससे आने वाली पीढ़ी क्या सीखेगी?''

नितिन छवन-पाटिल ने लिखा है, ''औरंगज़ेब की नीतियों का एक प्रमुख लक्ष्य हिंदू मंदिरों को तोड़ना था. केबीसी उन्हें सम्राट कैसे बोल सकता है. और छत्रपति शिवाजी महाराज को सिर्फ़ शिवाजी क्यों कहा?''

एक ट्विटर यूज़र गीतिका स्वामी ने दो तस्वीरें पोस्ट करते हुए लिखा है, ''पहली तस्वीर औरंगाबाद में स्थित औरंगज़ेब की पहली पत्नी के गुंबद की है, यह रोशनी से जगमगा रही है और इसका रखरखाव भी बेहतरीन है. दूसरी तस्वीर रायगढ़ में शिवाजी महाराज के गुंबद की है, वहां ना बिजली है और उसका कोई रखरखाव भी नहीं है.''

सोनी टीवी की माफ़ी

ट्विटर पर कई लोग सोनी टीवी, अमिताभ बच्चन और केबीसी से माफ़ी मांगने की मांग कर रहे हैं. इसी वजह से सोनी टीवी ने इस मुद्दे पर अपनी तरफ से माफ़ी मांग ली है.

सोनी टीवी ने अपने ट्वीट में लिखा है, ''बुधवार को केबीसी के एपिसोड में असावधानी के चलते छत्रपति शिवाजी महाराज के लिए ग़लत संदर्भ पेश किया गया. हमें इसका बहुत ख़ेद है, इसी वजह से अपने दर्शकों की भावनाओं को समझते हुए हमने कल के एपिसोड में माफ़ी मांगते हुए एक स्क्रॉल भी चलाया था.''

हालांकि कुछ लोग सोनी टीवी के इस माफ़ीनामे से भी संतुष्ट नहीं है. उनका कहना है कि इसके लिए अमिताभ बच्चन को अपने शो में माफ़ी मांगनी चाहिए.

मिलिंद धर्माधिकारी ने ट्वीट किया है, ''डियर सोनी टीवी जब छत्रपति शिवाजी महाराज का अपमान शो के दौरान किया गया तो उनके लिए माफ़ी ट्विटर पर क्यों मांगी जा रही है. अगर आपको हिंदुओं की भावनाओं का इतना ही ख्याल है तो यह माफ़ी अमिताभ बच्चन जी की ज़ुबान से शो के दौरान ही मांगी जानी चाहिए.''

वर्षा कुलकर्णी ने लिखा है, ''कार्यक्रम मे हमारे श्रद्धास्थान छत्रपति शिवाजी महाराज जी का अपमान बोलकर किया है तो क्षमायाचना भी कार्यक्रम में बोलकर ही होनी चाहिए वो भी अमिताभ बच्चन जी से ही ! तबतक #Boycott_KBC_SonyTv''

सोनी टीवी ने अपने इस माफ़ीनामे के साथ एक वीडियो भी पोस्ट किया है, इस वीडियो में दिख रहा है कि सोनी टीवी ने गुरुवार को टेलीकास्ट हुए एपिसोड में छत्रपति शिवाजी के संदर्भ में हुए विवाद पर लिखित माफ़ी शो के दौरान भी चलाई थी.

हालांकि ट्वीट के साथ पोस्ट हुए वीडियो की क्वालिटी काफ़ी ख़राब है, कई लोग इसकी शिक़ायत भी कर रहे हैं.

रणवीर ने लिखा है, ''ये कितनी घटिया वीडियो क्वालिटी है. अमिताभ बच्चन को खुद माफ़ी मांगनी चाहिए''

जे के झा ने ट्वीट किया है, ''सारे वीडियो तो एचडी क्वालिटी में डाले जाते हैं और इस वीडियो को 144 पीएक्स में डाल रहे हो, जिससे क्या लिखा है कुछ पता ही नहीं चले.''

छत्रपति शिवाजी और मुगल सम्राट औरंगज़ेब?

शिवाजी ने 1674 ई. में मराठा साम्राज्य की नींव रखी थी. रायगढ़ में जब उनका राज्याभिषेक हुआ, तब उन्हें छत्रपति की उपाधि भी दी गई थी.

वहीं दूसरी तरफ़ औरंगज़ेब क़रीब 49 साल तक राज किया. उनके शासन के दौरान मुग़ल साम्राज्य इतना फैला कि पहली बार उन्होंने क़रीब क़रीब पूरे उपमहाद्वीप को अपने साम्राज्य का हिस्सा बना लिया.

छत्रपति शिवाजी और औरंगज़ेब के बीच कई वर्षों तक संघर्ष चला था.

आज भले ही शिवाजी को हिंदू धर्म के एक महान राजा और औरंगज़ेब को हिंदुओं से नफ़रत करने वाले राजा के तौर पर पेश किया जाता है.

लेकिन कई इतिहासकार बताते हैं कि युद्ध के दौरान शिवाजी का साथ देने वाले कई मुस्लिम थे तो वहीं औरंगज़ेब को भी कई हिंदुओं का साथ मिला हुआ था.

ये भी पढ़ेंः

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार