अनुराग ने क्यों दिलाई अमिताभ को गब्बर की याद? #SOCIAL

  • 29 दिसंबर 2019
अमिताभ बच्चन और अनुराग कश्यप इमेज कॉपीरइट Getty Images

बॉलीवुड के शहंशाह कहे जाने वाले अमिताभ बच्चन अपनी फ़िल्मों के अलावा ट्विटर और ब्लॉग पर सक्रियता के लिए भी जाने जाते हैं.

इसी तरह से अपनी डार्क और लीग से हटकर बनाई गई फ़िल्मों और वेब सिरीज़ के लिए फ़िल्म निर्देशक अनुराग कश्यप की अलग पहचान है. अपनी इस पहचान से इतर अनुराग भी सोशल मीडिया पर खासे सक्रिय रहते हैं. वो देश की राजनीति और सामाजिक मुद्दों पर भी खुलकर अपनी राय रखते हैं.

इन दोनों ही कलाकारों ने शनिवार को जो ट्विट किए, उनकी काफी चर्चा हो रही है.

सबसे पहले अमिताभ बच्चन ने नए साल के संबंध में एक ट्वीट किया. इस ट्वीट में अमिताभ ने लिखा, ''नया साल आने में बस कुछ ही दिन बाकी हैं, ज़्यादा परेशान होने की बात नहीं है, बस 19-20 (उन्नीस बीस) का ही फ़र्क़ है.''

अमिताभ के ट्वीट के जवाब में अनुराग कश्यप ने लिखा, ''इस बार फ़र्क़ उन्नीस बीस का नहीं है सर, इस बार फ़र्क़ बहुत बड़ा है फ़िलहाल आप कृप्या अपनी सेहत का ख्याल रखें. अपने हिस्से का आपने 70 के दशक में ही कर दिया था, तब से अपने अंदर का बच्चन हम अपने अंदर ले के घूम रहे हैं. इस बार सामने गब्बर हो या LION या फिर शाकाल ....हम भी देखेंगे.''

नागरिकता क़ानून पर चुप्पी

अनुराग कश्यप ने जब से अमिताभ बच्चन के ट्विट का जवाब लिखा है, तब से लोग इस पर खूब प्रतिक्रियाएं दे रहे हैं.

माना जा रहा है कि अनुराग ने अमिताभ के ट्विट पर जवाब इसलिए लिखा क्योंकि अमिताभ बच्चन ने अभी तक नागरिकता संशोधन क़ानून के ख़िलाफ़ हो रहे विरोध प्रदर्शनों पर अपनी राय नहीं रखी है.

अमिताभ की यह चुप्पी कई लोगों को अखर रही है. दरअसल अमिताभ अक्सर देश में होने वाली बड़ी घटनाओं पर ट्विटर के ज़रिए प्रतिक्रिया दे देते हैं.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

बीते कई दिनों से देश भर में विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं. मुंबई में भी कई विशाल रैलियां इस क़ानून के विरोध और समर्थन में निकल चुकी हैं लेकिन सदी के महानायक कहे जाने वाले अमिताभ बच्चन ने इस पर अपनी चुप्पी नहीं तोड़ी है.

अमिताभ ने जब नए साल के संबंध में ट्वीट किया तो कई लोग उन्हें कमेंट कर लिखने लगे कि वो नागरिकता क़ानून पर भी कुछ ज़रूर लिखें.

अमति सेठ लिखते हैं, ''ग़लत सर, यह सिर्फ़ 19-20 का ही फ़र्क नहीं है, यह तो 14-20 का फ़र्क है... 2014 तक आपकी आवाज़ देश के हर एक मुद्दों पर गूंजती थी. 14 के बाद आपकी बोलती बंद हो गई, ऐसा क्यों सर? क्या अब यह भारत देश आपका नहीं रहा?''

शिबानंद मोहंती लिखते हैं, ''बस क्या सर जी, देश की हालत जानते हुए भी बधाई दे रहे हैं?''

अजय सिंह ने लिखा है, ''सर आप सिर्फ़ फ़िल्मों में ही देश के मुद्दे उठाते है क्या? इंडिया में इतना सबकुछ चल रहा है आपके मुंह से एक शब्द नहीं निकलता है?

अनुराग कश्यप के कई ट्वीट

अमिताभ बच्चन से ठीक उलट अनुराग कश्यप लगातार नागरिकता संशोधन क़ानून पर हो रहे विरोध प्रदर्शनों के संबंध में ट्वीट कर रहे हैं.

कई मौक़ों पर वो बेहद तीखी भाषा का प्रयोग भी कर चुके हैं. ऐसे ही एक ट्वीट में उन्होंने प्रधानमंत्री मोदी को बहरा, गूंगा तक लिख दिया था.

ट्वीट करने के इसी क्रम में अनुराग कश्यप ने एक बार जर्मनी के तानाशाह हिटलर और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के भाषण की समानता बताने वाले वीडियो को भी ट्वीट किया था.

हालांकि बीबीसी हिंदी ने अपनी पड़ताल में उस वीडियो को ग़लत पाया था. अनुराग को अपना वह ट्वीट डिलीट करना पड़ा.

अमिताभ बच्चन के संबंध में अनुराग कश्यप ने जो ट्वीट किया है उस पर भी लोगों की मिली जुली प्रतिक्रिया आ रही है. कुछ लोग अमिताभ की चुप्पी पर सवाल उठा रहे हैं तो कई लोग ऐसे भी हैं जो अनुराग को नसीहत दे रहे हैं कि वो अमिताभ जैसी शख्सियत के लिए ऐसी बातें ना करें.

आशीष पटेल लिखते हैं, ''अनुराग कश्यप आप अमिताभ बच्चन की अच्छी सेहत की चिंता मत कीजिए. मैं आपके ठीक होने के लिए प्रार्थना करता हूं.''

करुणा शेखर नामक ट्विटर हैंडल से लिखा गया है, ''NPR पर झूठ बोलने के लिए उकसाने वाली अरुंधति रॉय और प्रीमियम टिकट पर अपने शो में एंट्री देने वाले कवि विदेश जाते वक्त अपने डॉक्यूमेंट दिखाने को मना क्यों नहीं करते,क्यों नहीं वो पहले अपने पासपोर्ट, आधार, वोटर आईडी जला डालते.''

विशाल हेबले लिखते हैं, ''आप सभी लोगों से बोल रहे हैं कि वो आपके साथ खड़े हो जाएं और आपका साथ थे, ऐसा कर के आप पागल हो चुके हैं. सब के अपने विचार और फ़ैसले होते हैं और आपको उनका सम्मान करना सीखना चाहिए.''

अनुराग कश्यप ने इससे पहले अगस्त महीने में कुछ वक़्त के लिए अपना ट्विटर अकाउंट डिलीट कर दिया था. उस समय उन्होंने बताया था कि उनके परिवार और बेटी को लगातार ऑनलाइन धमकियां मिल रही हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूबपर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार