अहमदाबाद: ट्रंप के रोड शो में आख़िर कितने लोग आने वाले हैं?

  • 21 फरवरी 2020
कार्टून

गुजरात के लगभग मध्य में स्थित अहमदाबाद में अगर कोई बड़ा कार्यक्रम आयोजित हो तो उसमें कितने लोग आ सकते हैं?

यह सवाल अमरीकी राष्ट्रपति की अहमदाबाद यात्रा से जुड़ा हुआ है और एयरपोर्ट से मोटेरा स्टेडियम के बीच ट्रंप को देखने के लिए कितने लोग इकट्ठा होंगे, इस बारे में अब तक कई बयान आ चुके हैं.

प्रेस से बात करते हुए बुधवार को राष्ट्रपति ट्रंप ने कहा था कि "प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उनसे कहा कि एयरपोर्ट और मोटेरा स्टेडियम के बीच 70 लाख लोग उनके स्वागत के लिए होंगे."

शुक्रवार को अमरीका के कोलोराडो में हुई एक रैली में डोनल्ड ट्रंप ने यही बात दोहराई. उन्होंने कहा, "मैंने सुना है कि वहाँ दस लाख लोग इकट्ठा होंगे. उन्होंने कहा है कि दुनिया के सबसे बड़े क्रिकेट स्टेडियम के रास्ते में क़रीब 60 लाख से एक करोड़ लोग आ रहे हैं."

लेकिन अहमदाबाद नगर निगम के कमिश्नर विजय नेहरा द्वारा दी गई जानकारी राष्ट्रपति ट्रंप के दावों से मेल नहीं खाती.

16 फ़रवरी को नेहरा ने ट्वीट कर बताया था, "22 किलोमीटर के रोड शो के लिए एक लाख से ज़्यादा लोगों ने पहले ही पुष्टि कर दी है."

साल 2011 की जनगणना के अनुसार अहमदाबाद नगर निगम यानी अहमदाबाद शहर की आबादी 55 लाख से अधिक है. वहीं अहमदाबाद ताल्लुका यानी शहर के बाहरी इलाक़ों में 16 लाख से अधिक लोग रहते हैं. इस लिहाज़ से पूरे अहमदाबाद ज़िले की आबादी 72 लाख से कुछ अधिक बनती है. हालांकि जनसंख्या के ये आंकड़े 9 वर्ष पुराने हैं.

अहमदाबाद ज़िले के अलावा गुजरात के अन्य ज़िलों या अन्य प्रदेशों से कितने लोग ट्रंप के रोड शो को देखने के लिए पहुँच सकते हैं, इसपर कोई आधिकारिक सूचना नहीं दी गई है.

अमरीकी राष्ट्रपति 24 फ़रवरी को भारत पहुँच रहे हैं. कमिश्नर विजय नेहरा ने 16 फ़रवरी को जितने लोगों के इस कार्यक्रम में आने की पुष्टि की थी, हो सकता है कि उस संख्या में भी बीते दिनों में वृद्धि हुई हो. पर कितनी? इस बारे में भी कोई सूचना नहीं दी गई है.

इमेज कॉपीरइट SAUL LOEB/AFP/Getty Images

कोलोराडो की रैली में ट्रंप ने ये भी कहा, "प्रधानमंत्री मोदी कह रहे हैं कि आपके स्वागत के लिए एक करोड़ लोग वहाँ होंगे. लेकिन दिक्क़त यहाँ है. पूरा हॉल खचाखच भरा है. बहुत सारे लोग हैं. हज़ारों लोग तो अंदर भी नहीं आ पाए हैं. अगर भारत में एक करोड़ लोग आएंगे तो मैं यहाँ इतनी भीड़ से संतुष्ट नहीं होने वाला हूँ."

बीबीसी गुजराती सेवा के रॉक्सी गागडेकर छारा ने अहमदाबाद के कलेक्टर केके निराला से बात की.

निराला के मुताबिक़ स्टेडियम में 1.10 लाख लोगों के बैठने की क्षमता है. हम स्टेडियम के बाहर भी लोगों के बैठने का इंतज़ाम कर रहे है ताकि ज़्यादा से ज़्यादा लोगों को शामिल किया जा सके.

उनके मुताबिक़ 15 से 30 हज़ार लोगों को हम और एडजेस्ट कर सकते हैं.

इमेज कॉपीरइट THOMAS B. SHEA/AFP via Getty Images

गुजरात की राजनीति को क़रीब से समझने वाली मनिशी जानी के मुताबिक़ अहमदाबाद की सड़कों पर इतने लोगों के इक्कट्ठा होने की हम कल्पना भी नहीं कर सकते.

मनिशी के मुताबिक़ "आखिरी बार किसी नेता के लिए जब हमने इतनी बड़ी संख्या में भीड़ देखी थी, वे नेता थे पंडित जवाहर लाल नेहरू. उस वक़्त मैं बच्ची थी और उनको देखने के लिए मैं भी भीड़ का हिस्सा थी. अब वो नज़ारा दोबारा नहीं दोहराया जा सकता."

प्रदेश बीजेपी से बीबीसी गुजराती सेवा को मिली जानकारी के मुताबिक़ अहमदाबाद के 16 विधानसभा क्षेत्रों और 3 लोकसभा क्षेत्रों से लोगों को इस कार्यक्रम में लाने का ज़ोर लगाया जा रहा है ताकि रोड शो पूरा खचाखच भरा रहे.

भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता भरत पांड्या के मुताबिक़ ज़िला स्तर के सभी नेताओं से कहा गया है कि वे ज़्यादा से ज़्यादा लोगों को ऐतिहासिक रोड शो में शामिल होने के लिए प्रेरित करें.

सोशल मीडिया पर भी इन दावों को लेकर कम दिलचस्प प्रतिक्रियाएं नहीं हैं.

@SecularIndian_ नाम के ट्विटर यूज़र ने लिखा, "ट्रंप मोदी के साथ खेल रहे हैं. कितने लोग आएंगे, इसे लेकर वे हर रोज़ नया रिकॉर्ड सेट कर रहे हैं."

@Rantaramic ट्विटर यूज़र ने लिखा है, "रैली में उन्हें कितने लोग देखने आएंगे, ट्रंप ने उस आंकड़े को बढ़ाकर अब 70 लाख से एक करोड़ कर दिया है."

12 फ़रवरी को राष्ट्रपति ट्रंप के हवाले से समाचार एजेंसी एएनआई ने रिपोर्ट की थी कि "मैं भारत जा रहा हूँ. प्रधानमंत्री मोदी ने कहा है कि लाखों लोग आएंगे. उनके अंदाज़े के अनुसार एयरपोर्ट से मोटेरा स्टेडियम के रास्ते में 50 से 70 लाख लोग इकट्ठा होंगे."

कार्ल मैलमुड कहते हैं, "ट्रंप भारत जाने को लेकर बेहद उत्साहित दिखते हैं."

अमित चतुर्वेदी ने ट्वीट किया है, "अमरीका में मोदी की रैली में ट्रंप की रैली से ज़्यादा लोग इकट्ठा हुए थे. भारत में ट्रंप की रैली में उतने लोग आएंगे जितने उनके अपने देश में नहीं जुटते हैं."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार