प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्विटर पर लिखा 'सोच रहा हूं सोशल मीडिया छोड़ दूं'

नरेंद्र मोदी

इमेज स्रोत, Twitter@narendramodi

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का ये ट्वीट सोशल मीडिया के लिए किसी धमाके से कम नहीं था.

सोमवार को रात आठ बजकर 56 मिनट पर प्रधानमंत्री मोदी ने ट्वीट किया, "सोच रहा हूं कि फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर अपने सोशल मीडिया एकाउंट्स इस रविवार को छोड़ दूं."

इस समय ट्विटर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ट्विटर हैंडल @narendramodi को 5 करोड़ 33 लाख से भी ज़्यादा लोग फ़ॉलो करते हैं.

फ़ेसबुक पर मोदी के एकाउंट को चार करोड़ 47 लाख से भी ज़्यादा लोग फ़ॉलो करते हैं जबकि उनके इंस्टाग्राम एकाउंट को तीन करोड़ 52 लाख लोग फ़ॉलो करते हैं.

मोदी की लोकप्रियता यूट्यूब पर भी कम नहीं है. चार करोड़ 51 लाख लोगों ने मोदी के यूट्यूब एकाउंट को सब्सक्राइव कर रखा है.

हालांकि उन्होंने अपने इस इरादे की कोई वजह नहीं बताई है और न ही ये कहा है कि वो अपने सोशल मीडिया एकाउंट्स डिलीट करेंगे या डिएक्टिवेट (निष्क्रिय) या उनसे यूं ही दूरी बना लेंगे.

सोशल मीडिया पर प्रतिक्रियाएं

उनके ट्वीट के बाद सोशल मीडिया पर प्रतिक्रियाएं आनी शुरू हो गई हैं.

कांग्रेस नेता और पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री मोदी के ट्वीट को कमेंट के साथ री-ट्वीट किया है. उन्होंने लिखा है, "नफ़रत छोड़िए, ना की सोशल मीडिया"

हालांकि राहुल गांधी के ट्वीट पर त्रिपुरा के मुख्यमंत्री बिप्लब कुमार देब ने टिप्पणी की है. वो लिखते हैं, "तो यही वजह है कि सोनिया गांधी का किसी भी सोशल मीडिया प्लेटफ़ॉर्म पर कोई अकाउंट नहीं है."

कांग्रेस नेता रनदीप सिंह सुरजेवाला ने ट्वीट करते हुए पीएम को सलाह दी है.

वरिष्ठ पत्रकार राजदीप सरदेसाई ने भी पीएम के ट्वीट पर अपनी प्रतिक्रिया दी है. वो लिखते हैं, "पीएम ने ट्वीट किया है: शायद सोशल मीडिया छोड़ दूं. ट्विटर भी. मेरी सलाह: नरेंद्र मोदी जी मत छोड़िए, हमें आपको सुनना अच्छा लगता है. लेकिन कृपया उन लोगों को फ़ॉलो करना छोड़ दीजिए जो इस माध्यम का इस्तेमाल नफ़रत और फ़ेक न्यूज़ फैलाने के लिए करते हैं."

आम आदमी पार्टी के नेता सोमनाथ भारती ने ट्वीट किया है "सर, यह बहुत ही आश्चर्यचकित करने वाली बात है कि जो शख़्स भारत को डिजीटल इंडिया बनाने की बात करता है, वो सोशल मीडिया से दूर जाना चाहता है. लेकिन समझने की कोशिश कीजिए कि दिल्ली इस तरह के फ़ैसलों को सुनने में ज़रा भी रुचि नहीं रखती है. वो चाहती है कि आप आगे आकर दिल्ली में हुई हिंसा पर जवाब दें."

समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने ट्वीट किया है

अभिनेत्री रूपा गांगुली ने ट्वीट करके पीएम से ऐसा ना करने का अनुरोध किया है. वो लिखती हैं, "#NoSir कृपया आप लोगों से संवाद करना बंद ना करें."

ट्विटर पर पीएम एक समर्थक @janardanmis ने लिखा है, "हम आदेश नही कर सकते लेकिन विनम्र निवेदन तो कर ही सकते हैं.. कृपया आप ऐसा कर के हमलोगों से दूर चले जाएंगे.. आप ही से उम्मीद जगी है देश को, कम से कम इस माध्यम से आपसे जुड़ाव रहता है."

ट्विटर हैंडल @Being_Ridhima ने लिखा है, "हम अपने देश के पीएम से यह उम्मीद बिल्कुल नहीं कर सकते कि वह किसी भी मैदान को छोड़कर जाएं. आपका यह फ़ैसला इसलिए है क्योंकि कुछ लोग सोशल मीडिया को अफ़वाह फैलाने का माध्यम बना रहे हैं मैं समझ रही हूं. लेकिन सोशल मीडिया भी एक मैदान है और हमारा पीएम मैदान छोड़ दें यह हमें मंजूर नहीं."

अगर बात ट्विटर की करें तो शुरुआती ट्विटर ट्रेंड प्रधानमंत्री के इस ट्वीट पर ही आधारित हैं.

ट्विटर यूज़र्स #NoSir #NarendraModi #Social Media हैशटैग के साथ अपनी प्रतिक्रियाएं पोस्ट कर रहे हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)