लाहौर पुलिस एकेडमी पर हमला, 40 मरे

  • 25 जून 2009
पुलिस अकादमी पर हमला
Image caption लाहौर के पुलिस अकादमी पर भी चरमपंथियों ने हमला कर दिया है

पाकिस्तान के लाहौर शहर में एक वरिष्ठ सैन्य अधिकारी ने बताया है कि पुलिस प्रशिक्षण केंद्र पर हमले के दौरान अब तक 40 लोग मारे जा चुके हैं और 80 लोग घायल हुए हैं.

हमले में शामिल होने के आरोप में दो लोगों को गिरफ़्तार भी किया गया है.

कुछ बंदूकधारियों ने सोमवार को पुलिस प्रशिक्षण केंद्र पर हमला कर दिया था. बंदूकधारियों का निशाना बने पुलिस प्रशिक्षण केंद्र से कुछ पुलिसकर्मी बाहर आ गए हैं और वे सुरक्षित हैं. माना जा रहा है कि कई लोग अब भी बंधक हैं.

ये केंद्र वाघा सीमा के नज़दीक है. घटनास्थल पर मौजूद बीबीसी संवाददाता ने ये जानकारी दी है. संवाददाता के मुताबिक परिसर के ऊपर सेना के हेलिकॉप्टर चक्कर लगा रहे थे और इलाक़े पर गोलबारी कर रहे थे.

सेना अकादमी पर दोबारा नियंत्रण बनाने की कोशिश कर रही है. सेना ने परिसर में प्रवेश करनी की कोशिश की थो बंदूकधारियों ने ग्रेनेड से हमला किया.

पाकिस्तान के आंतरिक सुरक्षा मंत्री रहमान मलिक ने मीडिया से बातचीत में कहा कि इस हमले में 52 पुलिसकर्मी घायल हो गए हैं लेकिन उन्होंने मृतकों की संख्या नहीं बताई.

रहमान मलिक का कहना था,'' ये हमले मुंबई जैसे हैं. जब तक हमले के ज़िम्मेदार लोगों को हम पकड़ नहीं लेते और आगे जाँच नहीं करते, हम नहीं कह सकते कि इस हमले के पीछे कौन है.''

उनका कहना था,'' इस बात की जाँच की जाएगी कि हमलावरों को हथियार और पैसा कहां से मिल रहा है. ऐसी बंदूकें कहाँ से मिल रही हैं, ग्रेनेड कहाँ से हासिल हो रहे हैं.''

बीबीसी संवाददाता के मुताबिक अधिकारियों का कहना है कि हमलावर पुलिस की वर्दी में अकादमी में घुसे थे.

नियंत्रण की कोशिश

समाचार एजेंसी एपी के अनुसार पुलिस अधिकारी मोहम्मद अफ़ज़ल ने बताया सोमवार को सुबह जिस समय पुलिस अधिकारी परेड कर थे, उस दौरान बंदूकधारियों ने उन पर हमला किया.

पुलिस का कहना है कि हमलावरों ने गोलीबारी के अलावा ग्रेनेड भी फेंके.

टीवी दृश्यों में कई पुलिस जवानों को खून से लथपथ ज़मीन पर पड़े दिखाया गया है.

इस स्थान की घेराबंदी कर दी गई है और कमांडो दस्ते, पाकिस्तान रेंजर्स को तैनात किया गया है.

पुलिस अधिकारी सैयद अहमद मोबिन ने एपी से कहा,'' हमें पता नहीं कि कितने हमलावर हैं और उनमें से कितने मारे गए हैं और कितने नजदीकी इमारत में छुपे हुए हैं. हम उनसे मुक़ाबला कर रहे हैं.''

उल्लेखनीय है कि लगभग एक महीने पहले बंदूकधारियों ने लाहौर में श्रीलंकाई क्रिकेट टीम पर हमला किया था.

उस हमले में छह पुलिसवाले मारे गए थे जबकि हमलावर बंदूकधारी बच कर निकल गए थे.

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए