अमरीका की नई पाक-अफ़ग़ान नीति

बराक ओबामा
Image caption राष्ट्रपति ओबामा का कहना है कि नई नीति गहन समीक्षा के बाद तैयार की गई है

अमरीका के राष्ट्रपति बराक ओबामा ने अफ़ग़ानिस्तान और पाकिस्तान के लिए अमरीकी रणनीति में व्यापक बदलाव की घोषणा की है. उन्होंने कहा कि अल-क़ायदा और उससे जुड़े संगठन अब भी अमरीका और विश्व के लिए एक बड़ा ख़तरा बने हुए हैं. ओबामा ने अफ़ग़ानिस्तान में 4000 अतिरिक्त अमरीकी सैनिक तैनात करने की घोषणा की है.

उन्होंने कहा कि ये अतिरिक्त सैनिक अफ़ग़ानिस्तान की सेना और सुरक्षा बलों को प्रशिक्षण देने के साथ-साथ असैनिक कार्यों में भी सहायता करेंगे. अमरीकी राष्ट्रपति ने कहा कि अगले पाँच वर्षों तक पाकिस्तान को 7.5 अरब डॉलर की सीधी सहायता दी जाएगी. लेकिन उन्होंने आगाह किया कि ये सहायता 'ब्लैंक चेक़' जैसा नहीं होगा बल्कि पाकिस्तान को ये साबित करना होगा कि वो अल-क़ायदा और अन्य चरमपंथियों को ख़त्म करने के लिए प्रतिबद्ध है.

समीक्षा के बाद नई नीति

अमरीकी राष्ट्रपति ने कहा कि अफ़ग़ानिस्तान और पाकिस्तान के लिए नई नीति मौजूदा स्थिति की गहन समीक्षा के बाद तैयार की गई है.

ओबामा ने कहा कि नई नीति बनाते समय अमरीकी सैनिक अधिकारियों, राजनयिकों, क्षेत्र की सरकारों, नैटो सहयोगियों, ग़ैरसरकारी एजेंसियों और सहायता संस्थाओं से परामर्श किया गया है. अफ़ग़ानिस्तान और पाकिस्तान की स्थिति को ख़तरनाक बताते हुए राष्ट्रपति ओबामा ने कहा कि चरमपंथियों का प्रभाव बढ़ रहा है और उनके हमले बढ़ते जा रहे हैं. ख़ुफ़िया सूत्रों का हवाला देते हुए उन्होंने कहा कि अल-क़ायदा और उनसे जुड़े संगठन अमरीका पर नए हमले की योजना बना रहे हैं. ओबामा ने कहा कि अल-क़ायदा अमरीका के साथ-साथ अफ़ग़ानिस्तान और पाकिस्तान के लिए बड़ा ख़तरा है. उन्होंने ख़ास कर पाकिस्तान के संदर्भ में अल-क़ायदा को एक ऐसा कैंसर बताया जो कि अंदर ही अंदर उसे खोखला किए जा रहा है.

संबंधित समाचार

संबंधित इंटरनेट लिंक

बीबीसी बाहरी इंटरनेट साइट की सामग्री के लिए ज़िम्मेदार नहीं है