ड्रोन हमले में 50 लोगों की मौत

ड्रोन
Image caption इस इलाक़े में पिछले साल से अगस्त से अब तक क़रीब 35 ड्रोन हमले हुए हैं

पाकिस्तान के स्थानीय अधिकारियों का कहना है कि दक्षिणी वज़ीरिस्तान में एक संदिग्ध अमरीकी ड्रोन (चालक रहित विमान) हमले में कम से कम 50 लोगों की मौत हो गई है.

अधिकारियों ने बीबीसी को बताया कि दक्षिणी वज़ीरिस्तान के लद्धा इलाक़े में चरमपंथियों को निशाना बनाकर तीन संदिग्ध अमरीकी ड्रोन हमले किए गए.

पिछले दो दिनों में किया गया यह तीसरा ड्रोन हमला है. पहले के दो हमलों में 19 लोगों की मौत हुई थी.

उधर, पाकिस्तान की सेना ने कहा है कि इस हमले में युद्धग्रस्त स्वात घाटी में सक्रिय तालेबान के नेता मौलाना फ़ज़लुल्ला घायल हो गए हैं लेकिन इसकी अभी स्वतंत्र पुष्टि नहीं हो पाई है.

सेना की पुष्टि

सेना के प्रवक्ता मेजर जनरल अतहर अब्बास ने संवाददाताओं से कहा, " हमें इस बात की पुख़्ता जानकारी मिली है कि मौलाना फ़ज़लुल्ला घायल हो गए हैं लेकिन अभी यह कह पाना संभव नहीं है कि वे ज़िंदा हैं या नहीं."

विश्लेषकों की राय में स्वात घाटी में पिछले दो साल से शरिया क़ानून लागू करने की माँग के पीछे मौलाना फ़ज़लुल्ला का ही हाथ है.

स्वात में आजकल पाकिस्तान की सेना चरमपंथियों को खदेड़ने के लिए एक अभियान चला रही है.

दक्षिण वजीरिस्तान में पिछले दिनों हुए हमले में पाकिस्तान में तालेबान के बड़े नेता बैतुल्ला महसूद को निशाना बनाया गया था.

अमरीकी अधिकारियों का मानना है कि बैतुल्ला महसूद ही इस इलाक़े में तालेबान और अलक़ायदा के लड़ाकों को शरण देते हैं.

बैतुल्ला महसूद को ज़िंदा या मुर्दा पकड़ने पर अमरीका ने पचास लाख डालर का ईनाम भी घोषित कर रखा है.

यहाँ पिछले साल से अगस्त से अब तक क़रीब 35 ड्रोन हमले हुए हैं. ऐसा अनुमान है कि इन हमलों में 340 लोगों की मौत हुई है.

क़रीब सभी ड्रोन हमले उत्तरी और दक्षिणी वज़ीरिस्तान के क़बायली इलाक़े में ही किए गए.

संबंधित समाचार