'नए एलटीटीई प्रमुख गिरफ़्तार'

  • 7 अगस्त 2009
Image caption प्रभाकरण की मई में हत्या हो गई थी

श्रीलंका के अधिकारियों का कहना है कि तमिल विद्रोहियों के नए नेता सेलवरासा पदमनाथन को गिरफ़्तार कर लिया गया है.

श्रीलंका के रक्षा मंत्री ने बीबीसी को बताया कि पदमनाथन को थाईलैंड में हिरासत में लिया गया लेकिन उन्होंने ये नहीं बताया कि पदमनाथन को किन हालातों में पकड़ा गया.

वे केपी के नाम से ज़्यादा जाने जाते हैं.पदमनाथन कई वर्षों से थाईलैंड में ही रहते आए हैं.

मई में श्रीलंकाई सेना के हाथों मिली हार के बाद उन्होंने एलटीटीई का नेतृत्व संभाला था. इंटरपोल की भी पदमनाथन की तलाश थी. उनकी गिरफ़्तारी पर एलटीटीई की कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है.

'बड़ा झटका'

माना जाता है कि पिछले कई सालों से पदमनाथन एलटीटीई के लिए तस्करी का काम और हथियारों की सप्लाई का काम देख रहे हैं.

मई में प्रभाकरण और एलटीटीई के कई कमांडरों के मारे जाने के बाद पदमनाथन ने संगठन का नेतृत्व संभाला.

एलटीटीई का मुखिया बनने के बाद उन्होंने कहा था कि संगठन ने हथियार एक तरफ़ रख दिए हैं और अलग तमिल राष्ट्र बनाने के लिए वे अहिंसा का सहारा लेंगे.

अगर स्वतंत्र सूत्रों से पदमनाथन की गिरफ़्तारी की पुष्टि होती है तो ये एलटीटीई के लिए एक और झटका होगा.

भारत के पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की हत्या के सिलसिले में भी भारत को पदमनाथन की तलाश है.

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार