पाक कूटनयिक नियाज़ नायक की मौत

  • 9 अगस्त 2009
नियाज़ नाइक
Image caption नियाज़ नाइक ने करगिल के दौरान शांति की कोशिशों में अहम भूमिका निभाई थी

पाकिस्तान के पूर्व विदेश सचिव नियाज़ नाइक शनिवार को इस्लामाबाद स्थित अपने घर पर मृत पाए गए.

पाकिस्तान पुलिस को संदेह है कि शायद उनकी हत्या की गई थी.

नियाज़ नाइक 1999 के करगिल संकट के दौरान भारत के साथ 'परदे के पीछे की कूटनीति' में सक्रिय रहे थे.

पाकिस्तान पुलिस का कहना है कि ऐसा लगता है कि नियाज़ नाइक की मौत तीन या चार दिन पहले हुई थी.

नियाज़ नाइक 82 साल के थे और अविवाहित थे. वो इस्लामाबाद स्थित अपने घर पर अकेले रहते थे.

स्थानीय लोगों ने शव की दुर्गंध आने पर पुलिस को सूचित किया और उसके बाद उनके शव का पोस्टमार्टम किया गया.

पाकिस्तान इंस्टीट्यूट ऑफ़ मेडिकल साइंसेज़ के कार्यकारी निदेशक मेहनाजिल सिराज के अनुसार पोस्टमार्टम रिपोर्ट में उनके शरीर पर चोटों की पुष्टि हुई है.

नियाज़ नाइक 1999 में करगिल संघर्ष के दौरान ऑब्ज़र्वर अख़बार समूह के चेयरमैन दिवंगत आरके मिश्रा के साथ 'बैक चैनल डिप्लोमेसी' में शामिल रहे थे.

नियाज़ नाइक 1992 से 96 तक पाकिस्तान के विदेश सचिव और वो भारत में पाकिस्तान के उच्चायुक्त भी रहे थे.

संबंधित समाचार