मुशर्रफ़ के ख़िलाफ़ मुक़दमा दर्ज होगा

पाकिस्तान की राजधानी इस्लामाबाद की एक अदालत ने पुलिस को पूर्व राष्ट्रपति परवेज़ मुशर्रफ़ के ख़िलाफ़ मुक़दमा दर्ज करने का आदेश दिया है.

Image caption परवेज़ मुशर्रफ़ ने 2007 में देश में आपातकाल लगाया था

इस्लामाबाद के अतिरिक्त जिला और सत्र न्यायाधीश अब्दुल वकील ख़ान ने वर्ष 2007 में सुप्रीम कोर्ट के जजों को कथित रूप से हिरासत में रखने के मामले में पुलिस को ये आदेश दिया है. अदालत ने यह आदेश वकील असलम इक़बाल की याचिका पर दिया है. वरिष्ठ पुलिस अधिकारी हाकिम ख़ान ने इस बात की पुष्टि करते हुए बीबीसी को बताया कि अदालती आदेश के मद्देनज़र पूर्व राष्ट्रपति मुशर्रफ़ के ख़िलाफ़ मुक़दमा दर्ज किया जाएगा. हालाँकि उन्हें अब तक अदालत का आदेश नहीं मिला है. उन्होंने बताया कि तीन नवंबर 2007 को सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश इफ़्तिख़ार मोहम्मद चौधरी समेत कई जजों को ग़ैर क़ानूनी रूप से हिरासत में रखने के मामले में कई याचिकाएँ दायर की गई थी.

याचिकाएँ

सेक्रेटेरियट सर्किल के पुलिस उपाधीक्षक लियाक़त नियाज़ी ने बताया कि इस मामले में फ़ौजदारी की धारा 343 के तहत मामला दर्ज किया जाता है.

हालाँकि उन्होंने बताया कि यह देखना पड़ेगा कि शीर्ष जजों को कितने समय तक उनके घरों में क़ैद किया गया.

उन्होंने कहा कि देश के क़ानून के मुताबिक़ एक सप्ताह, एक महीना और एक साल तक ग़ैर क़ानूनी रूप से किसी को क़ैद करने की सज़ा अलग-अलग है.

हाल ही में सुप्रीम कोर्ट ने पूर्व राष्ट्रपति परवेज़ मुशर्रफ़ के देश में आपातकाल लगाए जाने के फ़ैसले को अवैध और असंवैधानिक करार दिया था.

इस समय देश के कई हिस्सों में पूर्व राष्ट्रपति मुशर्रफ़ के ख़िलाफ़ मामले दर्ज करने के लिए अलग-अलग लोगों ने अदालतों में याचिकाएँ दायर की हुई हैं.

विपक्षी पाकिस्तान मुस्लिम लीग (नवाज़) और अन्य विपक्षी पार्टियाँ मुशर्रफ़ के ख़िलाफ़ देशद्रोह का मामला दर्ज करने की मांग कर रही है.

संबंधित समाचार