ड्रोन हमले में 10 लोगों की मृत्यु

ड़्रोन
Image caption पाकिस्तान अमरीकी ड्रोन हमलों का आलोचक रहा है

स्थानीय ख़ुफ़िया एजेंसी के अधिकारियों का कहना है पाकिस्तान के उत्तर-पश्चिम इलाक़ों में अमरीकी ड्रोन हमले में कम से कम 10 संदिग्ध चरमपंथी मारे गए हैं.

उनका कहना है कि इस ड्रोन हमले में अफ़ग़ानिस्तान सीमा के नज़दीक वज़ीरिस्तान में स्थित एक चरमपंथी कैंप को निशाना बनाया गया है. ये इलाक़ा पाकिस्तान के तालेबान नेता बैतुल्लाह महसूद का मज़बूत गढ़ माना जाता है, पिछले ड्रोन हमले में उनकी मृत्यु की ख़बर आई थी जिसकी अभी तक पुष्टि नहीं हो सकी है. पिछले साल वहाँ इस प्रकार के दर्जनों ड्रोन हमले हुए हैं जिसमें सैंकड़ों चरमपंथी और नागरिक मारे जा चुके हैं. इनमें से अधिकतर हमले उत्तरी और दक्षिणी वज़ीरिस्तान के कबायली इलाक़ों में हुए हैं.

'प्रशिक्षण कैंप'

अधिकारियों का कहना है कि लद्दा गाँव के नज़दीक महसूद क़बीले के गढ़ को मंगलवार को मिसाइल से निशाना बनाया गया.

एक समाचार एजेंसी ने स्थानीय निवासी हमदुल्लाह महसूद के हवाले से कहा कि गाँव के एक निवासी के घर पर तीन मिसाइल दाग़े गए. ये घर चरमपंथियों के प्रशिक्षण कैंप के तौर पर इस्तेमाल हो रहा था. हमदुल्लाह के मुताबिक़ मृत्कों के अलावा इस हमले में पाँच अन्य लोग भी घायल हुए हैं. पिछले हफ़्ते इसी तरह के एक हमले में मकीन गाँव में स्थित बैतुल्ला महसूद के ससुर के घर को निशाना बनाया गया था. महसूद की पत्नी इस बमबारी में मारी गई थीं. पाकिस्तान सरकार का दावा है कि इसमें तालेबानी नेता भी मारे गए हैं लेकिन इसकी अभी तक पुष्टि नहीं हो सकी है. पाकिस्तान जनता के सामने ड्रोन हमलों की आलोचना करता आया है. सरकार का कहना है कि इससे चरमपंथियों को जनता का समर्थन मिलता है. अमरीकी सेना इन ड्रोन हमलों की आम तौर पर पुष्टि नहीं करती हैं लेकिन अफ़ग़ानिस्तान में जारी अभियान में अमरीकी सशस्त्र बल और सीआईए ही ऐसे बल हैं जो इस क्षेत्र में इस प्रकार के हमले करने में समर्थ हैं. मार्च के महीने में अमरीकी राष्ट्रपति बारक ओबामा ने कहा था कि उनकी सरकार पाकिस्तान से ड्रोन हमलों के बारे में बात करेगी.

संबंधित समाचार