पाकिस्तान में नेटो टैंकरों को उड़ाया

टैंकर
Image caption चरमपंथी रसद सामग्री को निशाना बनाते रहे हैं.

पाकिस्तान की पुलिस का कहना है कि संदिग्ध चरमपंथियों ने नैटो के लिए रसद ले जा रहे 20 वाहनों को बम से उड़ा दिया है. ये वाहन पाकिस्तान के कराची बंदरगाह से अफ़ग़ानिस्तान के कंधार शहर जा रहे थे.

इस हमले में दो लोग घायल हो गए हैं. अभी तक किसी ने इस हमले की ज़िम्मेदारी नहीं ली है.

ये हमला तब हुआ जब पाकिस्तान और अफ़ग़ानिस्तान के बीच की सीमा पर यातायात रुका हुआ था. दोनों देशों के अधिकारियों के बीच किसी विवाद की वजह से सीमा बंद थी.

रविवार की रात हुआ ये हमला रिमोट कंट्रोल से किया गया. पुलिस और प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि तेल के एक टैंकर के नीचे ज़बरदस्त धमाका हुआ जिससे टैंकर में आग लग गई और जल्दी ही पास खड़े दूसरे टैंकर भी इसकी चपेट में आ गए.

तालेबान अक्सर नैटो के लिए रसद ले जाने वाले ट्रकों पर हमले करते रहते हैं.

ट्रक चालकों का विवाद

पाकिस्तान और अफ़ग़ानिस्तान के बीच की सीमा शनिवार को बंद कर दी गई थी क्योंकि फल और दूसरी रसद पाकिस्तान ले जा रहे अफ़ग़ानिस्तान के ट्रक चालकों ने पाकिस्तान के सीमा सुरक्षा गार्डो पर आरोप लगाया था कि सुरक्षा जांच के लिए सीमा पर उनसे माल उतारने को बाध्य किया जाता है.

उनका कहना है कि इसमें बहुत समय लगता है और उनका माल ख़राब हो जाता है.

रविवार को अफ़गानिस्तान के शहर स्पिन बोल्डाक में आयोजित प्रैस सम्मेलन में अफ़ग़ान ट्रक चालकों ने पाकिस्तान के सीमा सुरक्षा बल के अधिकारियों पर रिश्वत मांगने का आरोप लगाया था.

उनका कहना था कि जो ट्रक चालक अधिकारियों को 500 रुपए दे देते हैं उनसे माल उतारने को नहीं कहा जाता.

लेकिन पाकिस्तान के क्वेटा शहर में सीमा सुरक्षा बल के प्रवक्ता मुरतज़ा बेग ने इन आरोपों का खंडन किया. उन्होने कहा, "इस साल अप्रैल के महीने में जब मानव तस्करी के एक मामले में 40 अफ़ग़ान एक कंटेनर में दम घुटने से मारे गए थे तब से हमें कड़े आदेश मिले हुए हैं कि अफ़ग़ानिस्तान से आ रहे सभी ट्रकों की जांच की जाए".

मुरतज़ा बेग ने कहा कि सभी ट्रक चालकों को माल उतारने को कहा जाता है.