प्रधानमंत्री भवन में चीनी पर प्रतिबंध

  • 10 सितंबर 2009
चीनी खरीदते लोग
Image caption पाकिस्तानी में चीनी की बड़ी किल्लत हो रही है

पाकिस्तान में चीनी की बढ़ती हुई क़ीमतों को कम करने के उद्देश्य से प्रधानमंत्री यूसुफ़ रज़ा गिलानी ने अपने सरकारी आवास में चीनी के इस्तेमाल पर प्रतिबंध लगा दिया गया है.

प्रधानमंत्री आवास के प्रवक्ता इमरान गरदेज़ी ने बीबीसी को बताया, “प्रधानमंत्री साहब ने चीनी के संकट को देखते हुए अपने कार्यालय और आवास में खाने की उन चीज़ों पर प्रतिबंध लगा दिया है जिसमें चीनी का इस्तेमाल किया जाता है.”

उन्होंने कहा, “गिलानी साहब चीनी के संकट को ख़त्म करना चाहते हैं और उन्होंने इस सिलसले में उचित क़दम भी उठाए हैं. उन्होंने चीनी पर प्रतिबंध इसलिए लगाया है ताकि आम जनता को प्रोत्साहित किया जाए कि वो भी चीनी का कम उपयोग करें.”

चाय के इस्तेमाल पर पूछे गए सवाल पर इमरान गरदेज़ी ने बताया, “प्रधानमंत्री आवास और कार्यालय में चाय पर प्रतिबंध नहीं है और लोग अपनी मर्ज़ी से चाय में चीनी इस्तेमाल कर सकते है लेकिन कम इस्तेमाल किया जाए तो अच्छा रहेगा.”

दुकानों से गायब

प्रधानमंत्री की ओर से चीनी के कम इस्तेमाल के क़दम को जानकार बेहतर मान रहे हैं लेकिन आम उपभोक्ताओं का कहना है कि प्रधानमंत्री इस क़दम के बजाए संकट को ख़त्म करने के लिए चीनी मिल मालिकों के ख़िलाफ़ कार्रवाई और क़ीमतें कम करने का आदेश दें तो ज्यादा अच्छा होगा.

इस्लामाबाद के कुछ आम लोगों ने बीबीसी को बताया, “रमज़ान के महीने में चीनी का ज़्यादा इस्तेमाल होता है, हम रोज़े रखते हैं इसलिए मीठा खाने को दिल करता है.”

लोगों का कहना था, “चीनी चाहे मंहगी हो या सस्ती, इस्तेमाल तो करनी पड़ती है. मेहमान आते हैं, कोई कम चीनी इस्तेमाल करता है तो कोई ज़्यादा.”

ध्यान रहे कि पाकिस्तान इन दिनों चीनी के बड़े संकट के जूझ रहा है और ठीक आपूर्ति न होने के कारण चीनी आम बाज़ारों से लगभग ग़ायब हो गई है.

पाकिस्तान में खुले बाज़ार में चीनी 55 से 60 रुपए प्रति किलो बिक रही है जबकि सरकारी दुकानों में क़ीमत 38 रुपए रखी गई है लेकिन उपभोक्ताओं का कहना है कि सरकारी दुकानों पर चीनी न होने के बराबर है.

पाकिस्तान में रमज़ान के महीने में मीठे भोजन का ज़्यादा इस्तेमाल किया जाता है और हर साल इस समय चीनी की क़ीमतों में बढ़ोतरी होती है.

चीनी ज़्यादा इस्तेमाल करने वाले देशों की सूची में पाकिस्तान का भी नाम है. देश चीनी की महीने की खपत तीन लाख टन है और पिछले साल देश में 36 लाख टन चीनी का उत्पादन हुआ था.

संबंधित समाचार