हाफ़िज़ सईद घर पर 'नज़रबंद'

हाफ़िज़ सईद
Image caption हाफ़िज़ सईद भारत के आरोपों को बेबुनियाद बताते हैं

मुंबई हमलों के कथित सूत्रधार और जमात उद-दावा के प्रमुख हाफ़िज़ सईद को उनके घर पर 'नज़रबंद' किया गया है और उनसे कहा गया है कि वे लाहौर के गद्दाफ़ी स्टेडियम में ईद की नमाज़ नहीं पढ़ा सकेंगे.

हालांकि उनसे कहा गया है कि उनकी जान को ख़तरा होने की वजह से यह क़दम उठाया जा रहा है लेकिन उनके उनके रिश्तेदारों का कहना है कि भारत के दबाव की वजह से पाकिस्तान सरकार ने यह क़दम उठाया है.

मुंबई हमलों के सिलसिले में हाफ़िज़ सईद को गिरफ़्तार किया गया था लेकिन सबूतों के अभाव में अदालत ने उन्हें रिहा कर दिया था.

शनिवार को ही पाकिस्तान के गृहमंत्री रहमान मलिक ने कहा था कि भारत को हाफ़िज़ सईद के ख़िलाफ़ पुख़्ता सबूत देना चाहिए जिससे कि उसे अदालत में पेश किया जा सके, वरना वे फिर छूट जाएँगे.

'नज़रबंद'

लाहौर में बीबीसी संवाददाता इबादुल हक़ का कहना है कि पुलिस ने न तो ये कहा है कि हाफ़िज़ सईद को गिफ़्तार किया जा रहा है और न ही ये कहा है कि उन्हें नज़रबंद किया जा रहा है.

उनका कहना है कि पुलिस ने उनकी सुरक्षा का हवाला देते हुए उनकी गतिविधियों को सीमित रखने को कहा है.

लेकिन हाफ़िज़ सईद के दामाद ख़ालिद वलीद का कहना है कि लाहौर के पुलिस अधीक्षक ने घर पर आकर कहा है कि उनकी सुरक्षा को ख़तरा है इसलिए वे अब घर तक पाबंद रहेंगे.

उनका कहना है कि घर के बाहर पुलिस तैनात है.

हाफ़िज़ सईद, हर साल ईद पर लाहौर के गद्दाफ़ी स्टेडियम में ईद की नमाज़ पढ़ाते आए हैं, लेकिन सोमवार को वे ऐसा नहीं कर सकेंगे.

ख़ालिद वलीद का कहना है कि सालों में पहली बार ऐसा होगा कि हाफ़िज़ सईद ईद की नमाज़ नहीं पढ़ाएँगे.

मामले

बीबीसी से हुई बातचीत में ख़ालिद वलीद ने कहा, "सरासर इंडिया के दबाव में आकर ऐसा क़दम उठाया गया है."

उनका कहना है कि मुंबई में हुए हमलों में हाफ़िज़ सईद के शामिल होने की बात बेबुनियाद है और यह भारत का दुष्प्रचार है.

उन्होंने एक सवाल के जवाब में कहा कि उन पर जो आरोप लगाए थे उसे अदालत ने ख़ारिज कर दिया है.

ख़ालिद वलीद ने स्वीकार किया कि दो दिन पहल हाफ़िज़ सईद के ख़िलाफ़ दो और मामले दर्ज किए गए हैं. उनका कहना था कि एफ़आईआर में उन पर क़ुरान का हवाला देते हुए अमरीका और भारत के ख़िलाफ़ जेहाद के लिए भड़काने का आरोप है.

उल्लेखनीय है कि न्यूयॉर्क में होने जा रहे संयुक्त राष्ट्र महासभा की बैठक में भारत और पाकिस्तान के विदेश मंत्रियों की मुलाक़ात होने की संभावना है.

समझा जा रहा है कि चूंकि भारत लगातार पाकिस्तान पर दबाव बना रहा है कि वह हाफ़िज़ सईद के ख़िलाफ़ कार्रवाई करे, इसलिए इस मुलाक़ात से पहले पाकिस्तान ने यह प्रतीकात्मक कार्रवाई की है.

संबंधित समाचार