तालेबान ने ली ज़िम्मेदारी

  • 6 अक्तूबर 2009
हमले की जगह
Image caption संयुक्त राष्ट्र कार्यालय पर हमले के बाद पाकिस्तान के गृह मंत्री घटनास्थल पर गए थे.

पाकिस्तान में प्रतिबंधित संगठन तहरीक ए तालेबान पाकिस्तान ने इस्लामाबाद में संयुक्त राष्ट्र विश्व खाद्य कार्यक्रम के कार्यालय पर हुए हमले की ज़िम्मेदारी ली है.

तालेबान ने बीबीसी की उर्दू सेवा के पाकिस्तान संपादक हारुन रशीद को फ़ोन कर के यह ज़िम्मेदारी ली है.

तालेबान के मुख्य प्रवक्ता आज़म तारिक़ का कहना था, “यह संस्था सामाजिक कल्याण के लिए नहीं बल्कि अमेरिकी हितों की सुरक्षा कर रही थी.”

ग़ौरतलब है कि सोमवार को विश्व खाद्य कार्यक्रम के कार्यालय में आत्मघाती हमला हुआ था जिस में पांच लोग मारे गए थे जिसमें एक इराक़ी नागरिक भी शामिल था.

पाकिस्तान में संयुक्त राष्ट्र के कामों की कड़ी आलोचना करते हुए तालेबान प्रवक्ता ने कहा, “संयुक्त राष्ट्र न किसी की मदद कर सकता है और न ही वह उस के बारे में कभी सोचता है.”

उन्होंने आगे कहा, “उसकी सभी संस्थाएँ पश्चमी देशों के हितों के लिए काम करती हैं और वह पाकिस्तानी सरकार की आँखों में धूल झोंक रही हैं.”

आज़म तारिक ने पाकिस्तानी नेतृत्व की भी आलोचना की और कहा कि वो देश को विवादित अमेरिकी कंपनी ब्लैवॉटर के रहमो करम पर नहीं छोड़ सकते.

पाकिस्तानी सेनी की ओर से अशांत क़बायली इलाक़े वज़ीरिस्तान में ताज़ा कार्रवाई के बारे में दिए गए बयानों पर तालेबान नेता का कहना था, “मैं पाकिस्तानी सेना को संदेश देना चाहता हूँ कि वज़ीरिस्तान उन की मौसी का घर नहीं है. पाकिस्तानी सेना को वज़ीरिस्तान काफी महंगा पड़ेगा.”

तालेबान प्रवक्ता ने इस हमलें को अपने प्रमुख बैतुल्लाह महसूद की मौत से नहीं जोड़ा है.

संबंधित समाचार