अफ़गानिस्तान पर ओबामा की बैठकें

  • 8 अक्तूबर 2009
बराक ओबामा
Image caption बराक ओबामा से अफ़गानिस्तान पर एक नई रणनीति की उम्मीद की जा रही है.

अमरीका के राष्ट्रपति बराक ओबामा अफ़ग़ानिस्तान के भविष्य की रणनीति तय करने के लिए वरिष्ठ सुरक्षा सलाहकारों के साथ बुधवार को महत्वपूर्ण बैठकें करने जा रहे हैं.

इस बैठक के बाद ओबामा कांग्रेस के वरिष्ठ सदस्यों के साथ भी बैठक करेंगे. ये चर्चा ऐसे समय में हो रही है जब अफ़ग़ानिस्तान में और अमरीकी सैनिक भेजे जाने को लेकर बहस चल रही है. अफ़ग़ानिस्तान में अमरीकी अभियान के आठ साल पूरे होने के बाद माना जा रहा है कि ओबामा अफ़ग़ानिस्तान नीति में बदलाव कर सकते हैं. बुधवार को होने वाली बैठक राष्ट्रपति की राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद की निर्धारित पांच बैठकों में से तीसरी है जिसमें सरकार और सेना के वरिष्ठ अधिकारी हिस्सा ले रहे हैं.

कहा जा रहा है कि मंगलवार को कांग्रेस के वरिष्ठ सदस्यों के साथ हुई बैठक में ओबामा ने अफ़ग़ानिस्तान में वर्तमान सैनिकों की कटौती की संभावना से इंकार कर दिया. बीबीसी संवाददाता का कहना है कि हांलाकि बुधवार की बैठक का मुख्य एजेंडा पाकिस्तान है यह बताने के लिए कि ओबामा प्रशासन की रणनीति क्षेत्रीय है न कि सिर्फ़ अफ़ग़ानिस्तान तक सीमित है. पर सबकी नज़रें अफ़ग़ानिस्तान नीति की समीक्षा पर हैं. ओबामा प्रशासन पर दबाव है कि वो अफग़ानिस्तान पर नई नीति लेकर आए.

वर्ष 2009 के अंत तक अफ़ग़ानिस्तान में अमरीका के 68000 सैनिक तैनात होने हैं.

पिछले हफ़्ते अफ़ग़ानिस्तान में नैटो कमांडर जनरल स्टेनले मैक्क्रिस्टल ने कहा था कि अफ़ग़ानिस्तान में सैनिकों की संख्या बढ़ाये जाने की ज़रुरत है.

इस अभियान में मानव संसाधन की कमी है और वहाँ एकदम नई रणनीति की ज़रूरत है.

वहीं अमरीकी रक्षा मंत्री रॉबर्ट गेट्स ने कहा था कि अफ़ग़ानिस्तान में सैनिक तैनाती पर फ़ैसला लेने के लिए और समय चाहिए.

रक्षा मंत्री ने कहा कि राष्ट्रपति ओबामा अफ़ग़ानिस्तान पर किसी भी तरह की सलाह का स्वागत करते हैं लेकिन साथ ही कहा कि ये निजी स्तर पर दी जानी चाहिए.

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार