पाकिस्तानी फ़ौज पर फिर हमला, 40 मरे

Image caption क्या ये हमले पाकिस्तानी तालिबान की बढ़ती ताक़त के प्रतीक हैं?

पाकिस्तानी फ़ौज के एक काफ़िले पर हुए संदिग्ध आत्मघाती हमले में कम से कम चालीस लोग मारे गए हैं.

मारे जाने वाले लोगों में ज्यादातर आम शहरी हैं.

स्वात घाटी में पाकिस्तानी फ़ौज के प्रवक्ता का कहना है कि हमलावर ने फ़ौजी काफ़िले पर तब निशाना लगाया जब वो पश्चिमोत्तर क्षेत्र में शांगला इलाक़े के एक भीड़भाड़ वाले बाज़ार के पास से गुज़र रहा था.

ये इलाक़ा स्वात घाटी के करीब है जहां पिछले दिनों में पाकिस्तानी सेना ने तालिबान चरमपंथियों के ख़िलाफ़ भारी कार्रवाई की है.

हाल ही में पाकिस्तानी फ़ौज ने घोषणा की थी कि स्वात घाटी को तालिबान के प्रभाव से मुक्त करा लिया गया है.

दूसरा बड़ा हमला

पिछले कुछ दिनों में पाकिस्तानी फ़ौज पर तालिबान चरमपंथियों की ओर से किया गया है दूसरा बड़ा हमला है.

शनिवार को चरमपंथियों ने रावलपिंडी स्थित पाकिस्तानी फ़ौज के मुख्यालय को निशाना बनाया था और चौबीस घंटों तक फ़ौज को उलझाए रखा.

सोमवार को पाकिस्तानी तालिबान ने इस हमले की ज़िम्मेदारी ली है.

तालिबान के प्रवक्ता, आज़म तारिक़, ने एक बयान जारी करते हुए कहा है कि ये हमला तालिबान नेता बेतुल्ला मसूद की मौत का बदला लेने के लिए किया गया था.

उनका ये भी कहना था कि ये दुस्साहसपूर्ण हमला तालिबान के पंजाबी धड़े ने किया था.

पाकिस्तानी सुरक्षा बलों ने हमला करने आए चरमपंथियों में से एक अक़ील को गिरफ़्तार करने का दावा किया है.

संबंधित समाचार