यूएन कर्मचारियों को सुरक्षा मिले

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने यूएन महासचिव बान की मून की उस बात का समर्थन किया है कि अफ़ग़ानिस्तान में संयुक्त राष्ट्र के संस्थानों और कर्मचारियों को अतिरिक्त सुरक्षा मुहैया करवाई जानी चाहिए.

बुधवार को काबुल में संयुक्त राष्ट्र के गेस्टहाउस पर चरमपंथियों ने हमला किया था जिसमें यूएन के पाँच कर्मचारी मारे गए थे.

बान की मून ने न्यूयॉर्क में कहा है कि अफ़ग़ानिस्तान अभियान जारी रहेगा हालांकि उन्होंने माना कि संयुक्त राष्ट्र के कर्मचारी चरमपंथियों के लिए आसान निशाना बने हुए हैं.

तालेबान ने कहा है कि वो अफ़ग़ानिस्तान में अगले हफ़्ते होने वाले राष्ट्रपति चुनाव के दूसरे चरण में बाधा डालेगा. संयुक्त राष्ट्र इस चुनाव की निगरानी कर रहा है. लेकिन सुरक्षा परिषद ने कहा है कि हिंसा को मतदान प्रकिया को प्रभावित नहीं होने देना चाहिए.

सुरक्षा इंतज़ाम

बान की मून ने कहा है कि महासभा में अपील करेंगे कि अफ़ग़ानिस्तान में सुरक्षा प्रदान की जाए. बजट का नियंत्रण महासभा के पास है.

पत्रकारों से बातचीत में उन्होंने कहा, संयुक्त राष्ट्र निशाना बनाया जा रहा है क्योंकि हम अफ़ग़ान चुनावों का समर्थन कर रहे हैं. काबुल से बाहर अन्य क्षेत्रों पर हम ज़ोर देंगे क्योंकि वहाँ सुरक्षा इंतज़ाम कम हैं. संयुक्त राष्ट्र कर्मचारियों के लिए अफ़ग़ानिस्तान और पाकिस्तान सबसे खतरनाक जगह बन गए हैं.

माना जा रहा है कि संयुक्त राष्ट्र अपने अन्य अभियानों से भी सुरक्षाकर्मी अफ़ग़ानिस्तान में लाने के बारे में सोच रहा है.

बान की मून ने कहा है कि हालांकि संयुक्त राष्ट्र कर्मचारियों की सुरक्षा की ज़िम्मेदारी अफ़ग़ान सरकार की है लेकिन वे सिर्फ़ सरकार की ही ज़िम्मेदारी नहीं है और बाकी देशों की भी मदद चाहिए होगी.

संबंधित समाचार