पाकिस्तान की अमरीका को चेतावनी

यूसुफ़ रज़ा गीलानी
Image caption यूसुफ़ रज़ा गीलानी ने अफ़ग़ानिस्तान की स्थिति पर चिंता जताई

पाकिस्तान ने आशंका जताई है कि अफ़ग़ानिस्तान में अमरीकी सैनिकों की संख्या में बढ़ोत्तरी के कारण अफ़ग़ानिस्तान के तालेबानी चरमपंथी सीमा पार कर पाकिस्तान आ सकते हैं.

पाकिस्तान का यह भी मानना है कि इससे उनके यहां पहले से मौजूद समस्या और बढ़ सकती है.

पाकिस्तानी प्रधानमंत्री यूसुफ़ रज़ा गीलानी ने कहा, "एक स्थिर अफ़ग़ानिस्तान पाकिस्तान के हित में है लेकिन पाकिस्तान उसके लिए अपनी स्थिरता की अनदेखी नहीं कर सकता है."

उन्होंने कहा, "अगर अमरीका अफ़ग़ानिस्तान के हेलमंद प्रांत में अपने और फ़ौजी उतारता है तो इससे बलूचिस्तान में चरमपंथियों के आने की आशंका बढ़ जाती है. यह पहले से ही पाकिस्तान का हिंसाग्रस्त प्रांत है, जहाँ संघर्ष जारी है."

योजना

यूसुफ़ रज़ा गीलानी ने कहा है कि इस बारे में उन्होंने अमरीका से बातचीत करने के लिए कहा है ताकि पाकिस्तान उसी आधार पर अपनी योजना बनाए.

उन्होंने कहा कि अगर अतिरिक्त अमीरीकी फ़ौजी का मामला पाकिस्तान और अफ़ग़ानिस्तान दोनों की सलाह से नहीं सुलझाया गया तो इस इलाक़े पर इसका गहरा प्रभाव पड़ेगा.

उन्होंने कहा कि अगर अमरीका अपनी अफ़ग़ान योजना में कोई बदलाव करना चाहता है तो उसे पाकिस्तान से सलाह करना चाहिए क्योंकि इससे पाकिस्तान सीधे तौर से प्रभावित होता है.

उन्होंने कहा कि वह यह नहीं कह सकते कि अफ़ग़ानिस्तान में फ़ौज में वृद्धि के मामले में वाक़ई उनसे सलाह की गई है या नहीं.

यह उम्मीद जताई जा रही है कि मंगलवार को अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा अफ़ग़ानिस्तान में अतिरिक्त अमरीकी फ़ौजी भेजना का ऐलान करने वाले हैं.

संबंधित समाचार