कराची की सबसे बड़ी बैंक चोरी

पाकिस्तान में सुरक्षा
Image caption बैंक में चोरी के बाद सुरक्षा बढ़ा दी गई

पाकिस्तान में एक बहुत बड़ी बैंक चोरी हुई है जिसका शक पुलिस को उन पर है जो कभी बैंकों को ऐसी चोरियों से बचाने के लिए नियुक्त किए गए थे.

पाकिस्तान पुलिस ने कहा है कि व्यावसायिक राजधानी कराची में चोरों ने एक बैंक से लगभग 37 लाख डॉलर उड़ा दिए हैं जिसे देश के इतिहास में सबसे बड़ी बैंक चोरी कहा जा रहा है.

यह चोरी अलाइड बैंक की एक बड़ी शाखा में हुई है. इस बैंक की गिनती पाकिस्तान के बड़े बैंकों में होती है हालाँकि पाकिस्तान में बैंक चोरी कोई असामान्य बात नहीं है लेकिन इतनी बड़ी बैंक चोरी नहीं सुनी जाती है.

कराची शहर को पाकिस्तान का वॉल स्ट्रीट कहा जाता है जो वित्तीय गतिविधियों का केंद्र है.

पुलिस के अनुसार अलायड बैंक में इस चोरी को सुरक्षा गार्डों के एक गैंग ने अंजाम दिया है जिसकी अगुवाई इसमें सुरक्षा के लिए तैनात एक सुरक्षा गार्ड ने की है.

पुलिस के अनुसार एक गार्ड को एक निजी सुरक्षा एजेंसी के ज़रिए भर्ती किया गया और दो महीने पहले उस गार्ड की नियुक्ति इस बैंक शाखा में हुई थी.

पुलिस के अनुसार इस गैंग ने बैंक इमारत के अंदर की जानकारी का चोरी के लिए फ़ायदा उठाया.

वह सुरक्षा गार्ड सोमवार को तड़के अपनी ड्यूटी के लिए पहुँचा और बाद में उसके साथी भी वहाँ पहुँच गए.

पुलिस ने कहा, "ये लोग तड़के बैंक इमारत में आए, सुरक्षा गार्डों को बाँध दिया और फिर बहुत मज़बूत कहे जाने वाले उस कमरे को गैस के ज़रिए काटा काटा जिसे स्ट्राँगरूम कहा जाता है."

स्ट्राँगरूम में भारी मात्रा में पड़े पाउंड, डॉलर और यूरो देखकर उनकी आँखें चौंधिया गईं और वे उन सभी को भरकर चंपत हो गए.

पुलिस के अनुसार उस सुरक्षा गार्ड ने यह नौकरी पाते समय फर्जी पहचान पत्र का इस्तेमाल किया.

पाकिस्तान में फर्जी पहचान पत्रों का इस्तेमाल भी कोई नई बात नहीं है.

पूरे देश में अनेक बैंक और संस्थान हज़ारों ऐसे लोग गार्ड के तौर पर भर्ती करते हैं जिनका पुलिस के पास कोई रिकॉर्ड भी नहीं होता है.

कराची में वर्ष 2009 में दर्जन भर बैंक चोरियाँ हुई हैं लेकिन कोई भी इस अंदाज़ से नहीं की गई. इस चोरी में चोरों ने बहुत योजनाबद्ध तरीक़े से काम किया.

संबंधित समाचार