'सीआईए हमलावर' का वीडियो जारी

  • 9 जनवरी 2010
Image caption अल जज़ीरा के वीडियो से ली गई तस्वीर

टीवी चैनल अल जज़ीरा पर एक क्लिप प्रसारित हुआ है जिसमें दिखाया गया है कि एक व्यक्ति तालेबान प्रमुख बैतुल्लाह महसूद की मौत का बदला लेने की कसम खा रहा है.

माना जा रहा है कि ये जॉर्डन के उसी व्यक्ति का वीडियो है जिसने अफ़ग़ानिस्तान में सीआईए एजेंटों को विस्फोटकों से उड़ा दिया था.

बताया जा रहा है कि फुटेज में ये दिखाया गया है कि हमलावार हुमाम खलिल कह रहे हैं कि महसूद की मौत का बदला अमरीका में या अमरीका के बाहर लेना होगा.

फ़ुटेज में ऐसा प्रतीत होता है कि हुमाम खलिल बैतुल्ला महसूस के उत्तराधिकारी हकीमुल्लाह महसूद के साथ बैठे हैं हालांकि वीडियो में हकीमुल्लाह का नाम नहीं लिया गया है.क्लिप की पुष्टि नहीं हो पाई है.

डबल एजेंट?

अफ़ग़ानिस्तान में हुए हमले में आठ लोग मारे गए थे.इनमें से सात सीआईए एजेंट थे और एक जॉर्डन का ख़ुफ़िया अधिकारी था.

1983 में बेरुत में अमरीकी दूतावास पर हमले के बाद अफ़ग़ानिस्तान के ख़ोस्त प्रांत में हुआ ये हमला अमरीकी ख़ुफ़िया अधिकारियों पर सबसे भीषण हमला था.

रिपोर्टों के मुताबिक हुमाम खलिल जॉर्डन में डॉक्टर थे और डबल एजेंट थे. और उन्हें जॉर्डन की ओर से अल क़ायदा की जासूसी करने के लिए रखा गया था.

अल जज़ीरा के क्लिप में दिखाया गया है कि एक व्यक्ति ‘इस्लाम के दुश्मनों’ को संदेश भेज रहा है जिसमें वो सीआईए और जॉर्डन की ख़ुफ़िया एजेंसियों का नाम ले रहा है.

वीडियो में व्यक्ति अरबी में बोल रहा है, “हम अपने नेता बैतुल्लाह महसूद की मौत कभी नहीं भूलेंगे. ओसामा बिन लादेन को शरण देने की कीमत बैतुल्लाह को अपनी जान देकर गंवानी पड़ी.”

फ़ुटेज में व्यक्ति इस तर्क को नकारता हुआ नज़र आता है कि वो जॉर्डन या अमरीका के लिए जासूसी कर रहा था. उसका कहना है कि ‘एक जिहादी मुस्लिम अपना धर्म नहीं बेचेगा’.

कट्टरवादी गुटों की वेबसाइटों पर नज़र रखने वाला संगठन इंटेलसेंटर के मुताबिक ये वीडियो तालेबान के पाकिस्तानी गुट ने जारी किया है.

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार