'अफ़ग़ान अभियान अब तक सफल'

  • 13 फरवरी 2010
अफ़ग़ानिस्तान
Image caption अफ़ग़ानिस्तान में तालेबान के ख़िलाफ़ बड़ा अभियान चल रहा है

दक्षिण अफ़ग़ानिस्तान में नैटो प्रमुख मेजर जनरल निक कार्टर ने कहा है कि तालेबान के ख़िलाफ़ जारी बड़ा अभियान अभी तक सफल रहा है.

हेलमंद में चल रहे इस अभियान में करीब 15 हज़ार अमरीकी, ब्रितानी और अफ़ग़ान सैनिक शामिल हैं और इसे 2001 के बाद अफ़ग़ानिस्तान में गठबंधन सेना का सबसे बड़ा अभियान माना जा रहा है.

अफ़ग़ान सेना का कहना है कि मरजाह का 70 फ़ीसदी क्षेत्र मुक्त करा लिया गया है जबकि एक ब्रितानी कमांडर के मुताबिक तालेबान के 11 अड्डों पर कब्ज़ा किया गया है.

रिपोर्टों के मुताबिक एक तालेबान कमांडर ने कहा है कि आम लोगों को बचाने के लिए उनके लोग पीछे हट रहे हैं. मुल्ला मोहम्मद ने एबीसी न्यूज़ को ये जानकारी दी. लेकिन उनकी बातों की पुष्टि नहीं हो पाई है.

बड़ा अभियान

ऑपरेशन मुशतरक नाम के इस अभियान का नेतृत्व अमरीकी मरीन कॉपर्स कर रहे हैं और उनका साथ दे रहे हैं ब्रिटेन, कनाडा और इस्टोनिया के करीब चार हज़ार सैनिक.

बीबीसी के फ़्रैंक गार्डनर कंधार हवाईअड्डे पर नैटो सैनिकों के साथ हैं. उनका कहना है कि इस अभियान की सफलता का पैमाना लड़ाई का मैदान नहीं होगा और सफलता इस बात से तय होगी कि क्या गठबंधन सेना हेलमंद इलाक़े में स्थाई शांति स्थापित कर पाती है.

नैटो का कहना है कि अभियान शुरु होने के कुछ घंटे बाद एक विस्फोट में तीन अमरीकी सैनिक मारे गए हालांकि ये स्पष्ट नहीं है कि ये सैनिक अभियान का हिस्सा थे या नहीं.

अफ़ग़ान अधिकारियों के मुताबिक अभियान के शुरु में तालेबान के पाँच लोग मारे गए थे और दो लोगों को पकड़ा गया था.

गठबंधन सेना अफ़ीम के खेतों के ज़रिए आगे बढ़ रही है और ध्यान रख रही है कि तालेबान द्वारा लगाए बमों में विस्फोट न हो जाए.

अफ़ग़ानिस्तान के राष्ट्रपति हामिद करज़ई ने ऑपरेशन मुशतरक को अपनी मंज़ूरी दी है और सेना को आगाह किया है कि आम लोगों को हताहत होने से बचाया जाए.

नैटो ने इलाक़े में पर्चे बाँटे हैं जिसमें नागिरकों को अभियान के बारे में जानकारी दी गई है.

एक अनुमान के मुताबिक मरजाह इलाक़े में 400 से लेकर 1000 चरमपंथी हैं. ये हेलमंद के ग्रीन ज़ोन में आता है और दक्षिणी हेलमंद में तालेबान का अंतिम मुख्य गढ़ है.

संबंधित समाचार