अफ़ग़ानिस्तान सरकार ने हमले की आलोचना की

नैटो
Image caption पिछले कुछ महीनों में नैटो के हमलो में कई आम नागरिकों की मौत हुई थी

अफ़ग़ानिस्तान सरकार ने नैटो के दक्षिण अफ़ग़ानिस्तान में उस हमले की निंदा की है जिसमें 27 आम नागरिक मारे गए थे और 12 लोग घायल हो गए थे. मरनेवालों में महिलाएँ और एक बच्चा शामिल है.

नैटो ने रविवार के इस हमले की जाँच शुरू कर दी है.

नैटो का कहना था कि उसने एक संदिग्ध काफ़िले को निशाना बनाया था लेकिन बाद में पाया कि इसमें कई अन्य लोग मारे गए हैं.

ये हमला हेलमंद के पास उरुज़गान प्रांत में गाड़ियों के एक काफ़िले पर हुआ.

अफ़ग़ानिस्तान के गृह मंत्रालय का कहना है कि हवाई हमले में तीन मिनी बसें निशाना बनीं थीं जिसमें 42 यात्री यात्रा कर रहे थे.

नागरिक निशाना

ये इस महीने में तीसरी बार है कि जब अफ़ग़ानिस्तान में तैनात विदेशी सेनाओं ने आम नागरिकों को निशाना बनाया है.

उरुज़गान प्रांत के गवर्नर गवर्नर सुल्तान अली उरुज़गानी ने बीबीसी के साथ बातचीत में कहा है कि मारे गए सारे लोग आम नागरिक हैं.

अफ़ग़ानिस्तान में नैटो सेनाओं के कमांटर जनरल स्टान्ले मैक्रिस्टल ने इस घटना पर गहरा दुख प्रकट किया है.

पिछले वर्ष जनरल मैक्रिस्टल ने आम नागरिकों को बचाने के लिए कई कड़े नियम लागू किए थे.

नैटो की सेनाओं ने हेलमंद प्रांत में एक बड़ा अभियान चला रखा है और इस दौरान भी कुछ हमलों में बड़ी संख्या में आम नागरिकों की मौत हो गई थी.

आम लोगों में इस बात को लेकर काफ़ी रोष है और यहां तक कि राष्ट्रपति हामिद करज़ई भी नैटो के हमलों में आम नागरिकों के मारे जाने की कड़ी आलोचना करते रहे हैं.

संबंधित समाचार