बांग्लादेश में आग से 18 मरे

बांग्लादेश
Image caption बांग्लादेश को रेडीमेड कपड़ों के निर्यात से बड़ी आय होती है

बांग्लादेश में कपड़े की एक फ़ैक्ट्री में लगी भीषण आग में कम से कम 18 लोग मारे गए हैं और 50 से अधिक घायल हुए हैं.

घायलों में कई लोगों की हालत गंभीर है और उन्हें विभिन्न अस्पतालों में भर्ती करवाया गया है. मृतकों की संख्या इससे अधिक होने की आशंका जताई गई है.

अग्निशमनकर्मियों का कहना है कि उन्होंने बहुत से लोगों को बचाया है.

अधिकारियों के अनुसार आग राजधानी ढाका से 30 किलोमीटर दूर एक स्वेटर फ़ैक्ट्री में लगी थी.

ग़ाज़ीपुर में 'ग़रीब एंड ग़रीब नवाज़ गारमेंट फ़ैक्ट्री' में गुरुवार को देर रात आग लगी.

स्थानीय मीडिया का कहना है कि छह मंज़िली इमारत की दूसरी मंज़िल में आग लगी और जल्दी ही इसने पूरी इमारत को अपनी चपेट में ले लिया.

अधिकारियों का कहना है कि दो घंटे बाद आग पर क़ाबू पा लिया गया.

बताया गया है कि इस फ़ैक्ट्री में निर्यात करने के लिए स्वेटर बनाए जाते थे.

समाचार एजेंसी एपी के अनुसार मृतकों में ज़्यादातर महिलाएँ हैं.

एजेंसी ने स्थानीय टेलीविज़न चैनल एनटीवी के हवाले से कहा है कि ज़्यादातर मौतें जलने या दम घुटने से हुई हैं.

एक अग्निशमन अधिकारी राशिद ने एपी को फ़ोन पर बताया कि आग लगने के कारणों का अभी पता नहीं चल सका है.

निर्यात के क्षेत्र में बांग्लादेश को सबसे बडी़ आय रेडीमेड कपड़ों से ही होती है. निर्यात से होनी वाली आय का लगभग 80 प्रतिशत रेडीमेड कपड़ों से ही होता है. पिछले साल बांग्लादेश को इससे 15 अरब डॉलर से अधिक की आय इससे हुई थी.

वहाँ रेडिमेड कपड़ों की चार हज़ार इकाइयाँ हैं.

मज़दूर संगठ नों का कहना है कि ज़्यादातर इकाइयों में काम करना सुरक्षित नहीं है.

संबंधित समाचार