लश्करे झँगवी के प्रमुख ड्रोन हमले में मारे गए

पाकिस्तान की सेना
Image caption लश्करे झँगवी के तार अल क़ायदा और तालेबान से जुड़े हुए बताए जाते हैं

बीबीसी को पता चला है कि पाकिस्तान के उत्तरी वज़ीरिस्तान में पाकिस्तानी चरमपंथी संगठन लश्करे झँगवी के प्रमुख की एक अमरीकी ड्रोन हमले में मौत हो गई है.

बीबीसी को प्राप्त जानकारी के अनुसार ये घटना 24 फ़रवरी की है और माना जाता है कि मारे गए चरमपंथी क़ारी मोहम्मद ज़फ़र सुन्नी मुसलमानों के उग्र गुट के प्रमुख थे.

इस गुट के अल क़ायदा और पाकिस्तानी तालेबान के साथ वर्ष 2007 से निकट संबंध हैं.

चरमपंथियों ने बीबीसी की उर्दू सेवा को बताया है कि मुफ़्ती अबूज़ार खन्जारी ने जफ़र की जगह ली है.

वर्ष 2006 में कराची में अमरीकी वाणिज्य दूतावास पर हमले के बाद से जफ़र की अमरीकी और पाकिस्तानी सेनाओं को तलाश थी.

अमरीका ने तो ऐसी जानकारी के लिए 50 लाख डॉलर के पुरस्कार की घोषणा की थी जिससे उनकी गिरफ़्तारी में मदद मिल सके.

माना जाता है कि क़ारी मोहम्मद ज़फ़र दक्षिणी वज़ीरिस्तान में रह रहे थे. उनके बारे में जानकारी थी कि वे क़ारी हुसैन के क़रीबी थे जो भावी आत्मघाती हमलावरों को प्रशिक्षण देने के लिए तालेबान के मुख्य प्रशिक्षक हैं.

वर्ष 2007 में लश्करे झँगवी के कई प्रमुख नेताओं की गिरफ़्तारी के बाद वे संगठन के प्रमुख बने थे.

इस संगठन पर वर्ष 2001 में प्रतिबंध लगाया गया था और इस पर सांप्रदायिक हिंसा बढ़ाने का आरोप था. इस संगठन का अमरीकी पत्रकार डेनियल पर्ल की हत्या और कई अन्य घटनाओं से भी संबंध बताया जाता है.

संबंधित समाचार