धमाकों से दहला कंधार

हमले (फ़ाइल फ़ोटो)
Image caption कंधार में कई आत्मघाती कार हमले हुए हैं.

अफ़ग़ानिस्तान के दक्षिणी शहर कंधार में हुए चार संदिग्ध आत्मघाती हमलों में 30 से ज़्यादा लोग मारे गए हैं.

पहला धमाका भारतीय समय के अनुसार शनिवार रात 11 बजे हुआ. पुलिस का कहना है कि हमलावरों ने एक जेल, होटल, मस्जिद और एक चौराहे को निशाना बनाया.

कभी तालेबान का गढ रहा कंधार अफ़ग़ानिस्तान के बड़े शहरों में से एक है.

अमरीका ने हाल ही में ऐसे संकेत दिए थे कि हिंसाग्रस्त कंधार में तालेबान के ख़िलाफ़ अभियान की शुरुआत हो सकती है.

तालेबान लड़ाके कंधार को अपना धार्मिक गढ भी मानते हैं.

यह शहर लगातार चरमपंथियों के निशाने पर रहा है और यहां कई बार आत्मघाती कार बम धमाके हुए हैं.

ख़बरों के मुताबिक ताज़ा हमलों की ज़िम्मेदारी भी तालेबान ने ली है.

जेल बना निशाना

Image caption कंधार से सटे हेलमंद में चरमपंथियों के ख़िलाफ़ कार्रवाई हो रही है.

अफ़ग़ान राष्ट्रपति हामिद करज़ई के भाई और कंधार प्रांतीय परिषद के प्रमुख अहमद वली करज़ई ने कहा है कि मुख्य हमला जेल को निशाना बनाकर किया गया.

इससे पहले जून, 2008 में आत्मघाती हमलावरों ने कंधार जेल के मुख्य गेट और उसके पास स्थित सुरक्षा चौकी को बम से उड़ा दिया था और उस घटना में सैंकड़ों क़ैदी भाग गए थे जिनमें से कई संदिग्ध चरमपंथी थे.

लेकिन अहमद वली करज़ई ने बताया कि ताज़ा हमले में जेल की दीवार नहीं गिरी पर आस-पास के मकानों को क्षति पहुँची है.

कंधार शहर के मुख्य अस्पताल के प्रमुख डॉक्टर अब्दुल क़यूम पुखला ने बताया मृतकों में पुलिसकर्मी और आम नागरिक शामिल हैं.

उत्तर अटलांटिक संधि संगठन (नैटो) की सेना के प्रवक्ता मेजर वाउज़ाक ने बताया कि अफ़ग़ान सुरक्षाकर्मियों के अनुरोध पर पश्चिमी देशों के सैनिक उन्हें मदद कर रहे हैं.

शनिवार को ही दिन में उरुगज़ान प्रांत में हुए बम विस्फोट में छह लोग मारे गए थे.

फिलहाल अंतरराष्ट्रीय सेना कंधार से सटे हेलमंद प्रांत में चरमपंथियों के ख़िलाफ़ कार्रवाई कर रही है.

अफ़ग़ानिस्तान में मौजूद अमरीकी सेना के वरिष्ठ कमांडर जनरल स्टेनली मैक्रिस्टल ने पिछले दिनों संकेत दिए थे कि अब अगला निशाना कंधार में छिपे चरमपंथी हो सकते हैं.

संबंधित समाचार