मिल गया नन्हा साहिल

साहिल सईद
Image caption साहिल को तीन मार्च को झेलम से अग़वा किया गया था

पाकिस्तान में अग़वा होने वाले पांच वर्षीय ब्रितानी बालक साहिल सईद को सुरक्षित रिहा करा लिया गया है.

इस्लामाबाद स्थित ब्रितानी उच्चायुक्त के अधिकारियों का कहना है कि साहिल पंजाब के झेलम से मिला.

तीन मार्च को साहिल का पंजाब के झेलम में उनके दादा के घर से बंदूक़धारी लुटेरों ने अपहरण कर लिया था.

साहिल सईद पाकिस्तानी मूल के ब्रितानी नागरिक हैं और उनके माता पिता ऑल्डहेम में रहते हैं.

साहिल के अपहरण के बाद से ही ये मामला काफ़ी चर्चा में है. पाकिस्तान के गृह मंत्री रहमान मलिक ने अपहरण के मामले में पिता पर शक ज़ाहिर किया था.

रिहाई

बताया जा रहा है कि मंगलवार को झेलम से 20 मील दूर डिंगा के एक स्कूल के पास साहिल लावारिस पाया गया.

साहिल के मिलने के बाद ऑल्डहेम में साहिल के परिवार के प्रवक्ता ने कहा है कि बालक की मां ने साहिल से टेलीफ़ोन पर बात की है.

प्रवक्ता ने कहा,"सारा परिवार ख़ुश है और जश्न मनाने की तैयारी में हैं."

इस अवसर पर पाकिस्तान में ब्रितानी उच्चायुक्त के एक अधिकारी ने पाकिस्तानी और ब्रितानी अधिकारियों के बीच सहयोग की तारीफ़ की है. हालांकि उन्होंने ये नहीं बताया कि बच्चे को कैसे हासिल किया गया.

पंजाब के क़ानून मंत्री राणा सनाउल्लाह ने एक स्थानीय टेलीविज़न चैनल को बताया है कि साहिल को हासिल करने के लिए फिरोती की रक़म अदा की गई है.

एक सावाल के जवाब में सनाउल्लाह ने कहा," रक़म ब्रिटेन में नहीं बल्कि किसी दूसरे देश में अदा की गई है."

उनका कहना था कि बच्चे के अपहरण में एक अंतरराष्ट्रीय समूह शामिल था.

मामला

Image caption गृह मंत्री रहमान मलिक ने परिवार के सदस्य पर शक ज़ाहिर किया था

तीन मार्च को जब साहिल अपने पिता के साथ ब्रिटेन आने की तैयारी में था तो बंदूकधारी लुटेरों ने पहले घर को लूटा और जाते समय बच्चे को भी अपने साथ ले गए.

लेकिन पिछले हफ़्ते पाकिस्तान पुलिस की मर्ज़ी के ख़िलाफ़ साहिल के पिता राजा सईद ब्रिटेन लौट गए.

कुछ ख़बरों के अनुसार बच्चे की रिहाई के लिए भारी रक़म (एक लाख़ पाउंड) की मांग की गई थी, लेकिन ये सरकारी तौर पर स्पष्ट नहीं हो सकता है कि ये रक़म दी गई या नहीं.

हालाँकि झेलम के एक पुलिस अधिकारी ने पत्रकारों को बताया कि बच्चे की स्थिति बिल्कुल सही है और वो खेल कूद रहा है, लेकिन उन्होंने किसी रिश्तेदार के शामिल होने से इनकार किया.

उनका कहना था कि किसी अनजाने शख़्स ने सुबह फ़ोन करके बताया कि एक बच्चा डिंगा में स्कूल के पास पड़ा है.

ग़ौरतलब है कि इस मामले में चार पुलिस वालों को निलंबित किया गया है क्योंकि उनपर आरोप था कि उन्होंने परिवार वालों की आपात फ़ोन कॉल का जवाब नहीं दिया था.