कार बम धमाके में चार मरे

पेशावर में धमाका (फ़ाइल फ़ोटो)
Image caption पेशावर में हो रहे चरमपंथी हमलों में अबतक सैकड़ों लोग मारे गए हैं.

पाकिस्तान के पेशावर शहर में बुधवार को एक पुलिस जाँच चौकी को निशाना बनाकर किए गए आत्मघाती हमले में चार सुरक्षाकर्मियों की मौत हो गई है.

इस हमले में 10 लोग घायल भी हुए हैं. घायलों में आम नागरिक भी शामिल हैं.

इलाक़े के वरिष्ठ पुलिस अधिकारी लियाक़ल अली ने कहा कि हमलावरों ने विस्फोटकों से लदी अपनी कार को पुलिस की गाड़ी से टकरा दिया.

इस इलाक़े में तालेबान और अल क़ायदा के ख़िलाफ़ जारी अभियान के बाद भी ताज़ा हमले का होना चरमपंथ के ख़तरों को बताता है.

सेना का अभियान

पाकिस्तान की सेना इस इलाक़े से तालेबान और अल क़ायदा के चरमपंथियों के ख़ात्में के लिए अभियान चला रही है.

लियाक़त अली ने एक समाचार एजेंसी को टेलीफोन पर बताया, ''विस्फोटक पदार्थों से भरी गाड़ी कबायली इलाक़े की ओर से आई थी.''

पुलिस का कहना है कि इस हमले में मारे गए अधिकारी अपनी रूटीन ड्यूटी पर थे.

अली ने कहा कि हमलावर शहर के अंदर जाना चाहते थे, लेकिन जब उनकी गाड़ी को जाँच के लिए रोका गया तो उन्होंने गाड़ी को विस्फोट से उड़ा दिया.

बीबीसी संवाददाता इलियास ख़ान का कहना है कि पुलिस को इस बात से राहत मिली है कि उसने एक बड़े लक्ष्य को निशाना बनने से रोक दिया.

संवाददाताओं का कहना है कि देश के उत्तरी हिस्से में चरमपंथी हमले तो लगातार कर रहे हैं, लेकिन हमलों की संख्या पिछले कुछ महीनों की तुलना में कम हुई है.

तालिबान मीडिया सेंटर की तरफ़ से जारी एक बयान में कहा गया है कि तालेबान और आम लोगों ने मिलकर पाकिस्तानी सेना पर ये हमला किया है.

पिछले साल सर्दियों से तालेबान के ख़िलाफ़ शुरू किए गए सेना के अभियान में अबतक सैकड़ों लोगों की मौत हो चुकी है.

संबंधित समाचार