मुंबई मामलों में इंसाफ़ होगा

  • 3 मई 2010
गिलानी और मनमोहन
Image caption सार्क सम्मेलन के दौरान मनमोहन सिंह और गिलानी मिले थे.

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री यूयुफ रज़ा गिलानी ने कहा है कि उन्होंने भारतीय प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को मुंबई हमलों के ज़िम्मेदारों को न्याय के कटघरे में पहुँचाने का आश्वासन दिया है.

उन्होंने संसद को संबोधित करते हुए कहा, “युद्ध का समय अब बीत चुका है और हमें बातचीत के लिए बैठना पड़ेगा.”

प्रधानमंत्री ने आगे कहा, “जब मैं डॉक्टर मनमोहन सिंह के साथ बैठा और उन्होंने मुझ से कहा कि हम आप पर विश्वास करते हैं और आप कहते हैं कि मुंबई हमलावरों को न्याय के कटघरे में लाया जाएगा तो हमें विश्वास है.”

उन के मुताबिक पाकिस्तान में मुंबई हमलों का मुक़दमा चल रहा है और अभियुक्तों के न्याय कटघरे तक पहुँचाया जाएगा.

ग़ौरतलब है कि रावलपिंडी की आतंकवाद निरोधक अदालत में ज़की-उर-रहमान लखवी सहित छह लोगों के ख़िलाफ मुंबई हमलों का मुक़दमा चल रहा है और अभियोजन पक्ष ने सभी अभियुक्तों के ख़िलाफ आरोप-पत्र भी दाख़िल कर दिए हैं.

भारत और पाकिस्तान के बीच संपर्क की बहाली पर बात करते हुए यूसुफ़ रज़ा गिलानी ने कहा, “हम ने बातचीत की प्रक्रिया जारी रखने का फैसला लिया है और हम कश्मीर, पानी और कई अन्य मुद्दों पर बातचीत करेंगे.”

उन्होंने आगे कहा, “मैंने भारत से कहा कि जिस मुद्दे पर भी आप बात करेंगे, मैं उसके लिए तैयार हूँ और हम ने जनता की इच्छाओं के अनुसार काम किया है.”

प्रधानमंत्री ने कहा कि दोनों देश गरीबी, बेरोज़गारी और मंहगाई सहित कई समस्याओं का सामना कर रहे हैं और इन परिस्थितियों को देखते हुए दोनों देशों को जनता केलिए बहतर ढंग से काम करना चाहिए.

उन्होंने संसद को बताया, “हम चाहते हैं हम अपने सभी साधन जनता के लिए इस्तेमाल करें और उस को सुरक्षा भी प्रदान करें. हम दुनिया से साथ बहतर संबंध भी चाहते हैं.”

ग़ौरतलब है कि भूटान में सार्क शिखर सम्मेलन में भाग लेने के बाद प्रधानमंत्री यूसुफ रज़ा गिलानी ने पहली बार संसद को संबोधित किया और उस में होने वाले फैसलों से अवगत कराया.

संबंधित समाचार