ड्रोन हमले में '10 चरमपंथी मारे गए'

ड्रोन के साथ सैनिक
Image caption अमरीका ने हाल ही में ड्रोन हमले तेज़ किए हैं

पाकिस्तान के अधिकारियों का कहना है कि अफ़ग़ानिस्तान की सीमा से लगे उत्तरी वज़ीरिस्तान के क़बायली इलाक़े में हुए अमरीकी ड्रोन हमलों में कम से कम 10 संदिग्ध चरमपंथी मारे गए हैं.

अधिकारियों का कहना है कि हमले में 12 संदिग्ध चरमपंथी ज़ख़्मी भी हुए हैं.

अधिकारियों के अनुसार चालक रहित विमान (ड्रोन) के ज़रिए कोई दर्जन भर मिसाइल दाग़े गए.

हमले मीरानशाह शहर से 30 किलोमीटर दूर किए गए, जहाँ कथित तौर पर तालेबान के ट्रेनिंग कैंप थे.

न्यूयॉर्क में एक नाकाम बम हमले के बाद से किया गया यह तीसरा ड्रोन हमला है. उस हमले की साज़िश कथित तौर पर पाकिस्तानी तालेबान ने रची थी.

इसके बाद से अमरीका ने पाकिस्तान सरकार पर दबाव भी बढ़ा दिया है.

एक पाकिस्तानी अधिकारी ने समाचार एजेंसी एएफ़पी को बताया कि मंगलवार की सुबह ड्रोन हमले किए गए.

अधिकारी ने बताया, "हमले का निशाना एक परिसर था जिसके सामने कई कारें खड़ी हुई थीं. ताज़ा रिपोर्ट के अनुसार वहाँ 14 चरमपंथी मारे गए हैं."

लेकिन सामचार एजेंसी रॉयटर्स ने कहा है कि चरमपंथियों ने उस इलाक़े को घेर लिया है और अब तक उन्हें 11 शव मिले हैं.

अधिकारियों का कहना है कि मरने वालों की संख्या अधिक भी हो सकती है.

अमरीका ने वर्ष 2008 से इस इलाक़े में ड्रोन हमले शुरु किए थे लेकिन हाल ही में इन हमलों में तेज़ी आई है.

इन हमलों में अब तक सैकड़ों लोग मारे गए हैं जिनमें कुछ आम नागरिक भी हैं.

पाकिस्तान इन हमलों का विरोध करता है क्योंकि उनका तर्क है कि इससे लोगों में चरमपंथियों के लिए हमदर्दी बढ़ती है.

लेकिन पर्यवेक्षकों का कहना है कि अधिकारी निजी तौर पर इन हमलों का समर्थन करते हैं.

संबंधित समाचार