लाहौर अस्पताल पर चरमपंथी हमला

Image caption शुक्रवार को लाहौर की एक मस्जिद पर हमला हुआ था जिसमें 93 लोग मारे गए थे.

पाकिस्तान के लाहौर शहर में चार बंदूकधारियों ने एक अस्पताल पर हमला किया है जिसमें छह लोगों के मारे जाने की ख़बर है. मरने वालों में तीन पुलिसकर्मी भी हैं.

पुलिस का कहना है कि चारों चरमपंथी वहां से भागने में कामयाब हो गए हैं.

पंजाब प्रांत के पुलिस महानिरीक्षक सलीम डोगर ने मीडिया को बताया कि चार चरमपंथी अस्पताल में घुसे और उन्होंने अंधाधुंध फ़ायरिंग की.

अल्लामा इक़बाल मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य जावेद अकरम ने बताया कि इस हमले में छह लोग ज़ख़्मी हैं जिनमें एक चार माह का बच्चा और उसकी माँ भी है.

चरमपंथी के साथी

पंजाब प्रांत के पुलिस महानिरीक्षक का कहना है कि हमलावर पुलिस की वर्दी में भीतर घुसे थे.

उनका कहना है कि शुक्रवार को लाहौर में हुए हमले के बाद गिरफ़्तार एक चरमपंथी का इसी अस्पताल में इलाज चल रहा था.

उनका कहना था, "ये स्पष्ट नहीं है कि ये चारों इस घायल चरमपंथी को मारने आए थे या छुड़वाने. लेकिन वहां मौजूद पुलिसवालों ने जब जवाबी फ़ायरिंग की तो वो वहां से भाग निकले."

पुलिस का कहना है कि एक हमलावर को कंधे में गोली लगी है.

पुलिस ने लोगों से और स्थानीय अस्पतालों से अपील की है कि यदि ऐसा कोई व्यक्ति उनके पास इलाज के लिए आए तो वो फ़ौरन पुलिस को सूचित करें.

लाहौर के पुलिस कमिश्नर ख़ुसरो परवेज़ ने एक टीवी चैनल को बताया, “ये कट्टर आतंकवादी हैं जिनका न कोई दीन है, न मज़हब, न इंसानियत. "

पंजाब के मुख्यमंत्री शाहबाज़ शरीफ़ भी अस्पताल पहुंचे और हालात का जायज़ा लिया.

ये वही अस्पताल है जहां शुक्रवार को हुए हमले में घायल लोगों में से कुछ का इलाज चल रहा है.

शुक्रवार को लाहौर में अल्पसंख्यक अहमदिया समुदाय की दो मस्जिदों पर हुए चरमपंथी हमलों में 90 से ज़्यादा लोग मारे गए थे और बड़ी संख्या में लोग घायल हुए थे.

संबंधित समाचार