पाइप लाइन को चरमपंथियों का समर्थन

चरमपंथी लड़ाके
Image caption चरमपंथियों की वजह से इस गैस पाइप लाइन की सुरक्षा को लेकर चिंता जताई जाती रही है

अफ़ग़ानिस्तान में नैटो की फ़ौजों से संघर्ष कर रहे एक चरमपंथी गुट ने गैस पाइप लाइन परियोजना को समर्थन देने की घोषणा करते हुए कहा है कि ये गुट उस पाइप लाइन की सुरक्षा भी करेगा.

हिज़्बी इस्लामी हिकमतयार नाम के इस गुट ने कहा है कि यह पाइप लाइन अफ़ग़ानिस्तान के हित में है.

इस गैस पाइप लाइन पर तुर्कमेनिस्तान, अफ़ग़ानिस्तान, पाकिस्तान और भारत के बीच इस महीने की शुरुआत में ही एक समझौता हुआ है.

अहम परियोजना

अरबों डॉलर के इस समझौते में कहा गया है कि तुर्कमेनिस्तान से अफ़ग़ानिस्तान के रास्ते पाकिस्तान और भारत तक गैस पहुँचाई जाएगी.

Image caption पाकिस्तान और भारत के लिए यह एक महत्वाकांक्षी परियोजना है

लेकिन इस गैस पाइप लाइन की सुरक्षा को लेकर चिंता जताई जाती रही हैं क्योंकि यह उन इलाक़ों से होकर गुज़रेगी जहाँ चरमपंथियों का नियंत्रण है.

हिज़्बी इस्लामी हिकमतयार अफ़ग़ानिस्तान के ताक़तवर चरमपंथी गुटों में से एक है और इस गुट की घोषणा अफ़ग़ानिस्तान सरकार को न केवल राहत देने वाली है बल्कि चकित भी करने वाली है.

एक लिखित बयान जारी करते हुए इस गुट ने कहा है कि यह गैस पाइप लाइन देश के हित में है और इसे जो भी नुक़सान पहुँचाने की कोशिश करेगा वह देश का दुश्मन होगा.

इस गुट ने कहा है कि यदि इस पाइप लाइन के निर्माण कार्य में भी सुरक्षा मुहैया करवाने की ज़रुरत पड़ी तो वह इसके लिए भी तैयार है.

लेकिन उसने स्पष्ट किया है कि वह विदेशी फ़ौजों पर हमले जारी रखेगा.

संबंधित समाचार