'कोड़े मारने से हुई थी बांग्लादेशी युवती की मौत'

हिना बेगम
Image caption एक शादीशुदा मर्द से संबंध रखने के नाम पर हिना बेगम को सरेआम 80 कोड़े लगाए गए थे.

बांग्लादेश में एक लड़की की मौत के मामले में आई एक नई पोस्ट मार्टम रिपोर्ट ने मौत की वजह ख़ून का अधिक रिसाव और गहरी चोटों को बताया है. बांग्लादेश के एक अधिकारी ने बीबीसी को बताया कि ढाका में डाक्टरों ने हिना बेगम नाम की इस लड़की के शरीर पर गहरी चोटों के निशान पाए हैं.

हिना बेगम को उसके गाँव की एक पंचायत ने एक विवाहित व्यक्ति से संबंध रखने के आरोप में अस्सी कोड़े मारे जाने की सज़ा दी थी. उन्हें ये कोड़े गाँव में सरेआम लगाए गए थे जिसके बाद उसकी हालत बिगड़ गई थी और उसे अस्पताल में भर्ती करवाना पड़ा था. अस्पताल में छह दिन की जद्दोजहद के बाद हिना बेगम की मौत हो गई थी.

इस मामले में पहले पोस्ट मार्टम में कहा गया था कि उसके शरीर पर किसी तरह की चोटें नही थीं. अब बांग्लादेश हाई कोर्ट ने पहली रिपोर्ट तैयार करनेवाले डाक्टरों को गुरूवार को अदालत में पेश होने का हुक्म दिया है.

गिरफ़्तारी

Image caption बांग्लादेश हाई कोर्ट ने देश में कोड़े मारे जाने की सज़ा पर पाबंदी लगा रखी है.

इस मामले में पाँच अन्य लोगों की गिरफ्तारी भी हुई है. गिरफ्तार किए गए लोगों में उसका एक रिश्तेदार महबूब ख़ान भी शामिल है. हिना बेगम पर आरोप था कि ख़ान के साथ उसके नाजायज़ संबंध हैं.

उसके परिवार ने इन आरोपों से इंकार किया था.

गाँव की एक पंचायत और कुछ मौलवियों ने मिलकर ये फ़ैसला किया था कि हिना बेगम को इस 'गुनाह' के लिए 80 कोड़े लगाए जाएंगे. पंचायत ने महबूब ख़ान को भी कोड़े लगाए जाने की सज़ा सुनाई थी लेकिन वो किसी तरह इस दंड से बच गए थे.

हिना बेगम की मौत के बाद इस मामले को लेकर मीडिया में भारी हंगामा हुआ था जिसकी वजह से हाई कोर्ट ने पूरे केस की फिर से छानबीन के आदेश दिए थे.

ढाका से लगभग 90 किलोमीटर दूर शरीयतपुर ज़िले में हुई ये घटना इस तरह का दूसरा मामला है.

पिछले साल राजशाही ज़िले में नाजायज़ संबंध रखने के आरोप में कोड़े लगाए जाने के बाद एक 40 वर्षीय महिला की मौत हो गई थी.

संबंधित समाचार