श्रीलंका ने भारतीय मछुआरों को छोड़ा

  • 19 फरवरी 2011
प्रदर्शन इमेज कॉपीरइट AP
Image caption दक्षिण भारत में श्रीलंका में भारतीय मछुआरों की गिरफ़्तारी के ख़िलाफ़ प्रदर्शन

श्रीलंका की नौसेना के अधिकारियों ने कहा है कि वो गिरफ़्तार किए गए सभी 136 भारतीय मछुआरों को भारती तट रक्षकों को सौंप रहे हैं.

अधिकारियों का कहना है कि ये लोग तब गिरफ़्तार किए गए थे जब वे श्रीलंका की जलसीमा में घुसकर मछली पकड़ने की कोशिश कर रहे थे.

हालांकि पहले आई ख़बरों के मुताबिक़ इन लोगों को श्रीलंका के मछुआरों के एक ग्रुप ने पकड़कर पुलिस के हवाले कर दिया था.

उनका कहना था कि भारतीय मछुआरे श्रीलंका की जलसीमा में घुसकर मछली पकड़ रहे थे.

पुलिस ने इनकी नावें भी ज़ब्त कर ली थीं.

पकड़े गए सभी मछुआरों का ताल्लुक़ दक्षिण भारतीय राज्य तमिलनाडु से है.

इन मछुआरों की रिहाई के सिलसिले में भारतीय दूतावास और श्रीलंका के रक्षा विभाग के अधिकारियों के बीच कई बार बातचीत हुई है.

श्रीलंका ने इस बात से इनकार किया है कि इस घटना में उनकी नौसेना का हाथ है.

विवाद

श्रीलंका की एक अदालत ने मछुआरों को हिरासत में रखने का हुक्म दिया था.

इन गिरफ़्तारियों के विरुद्ध तमिलनाड़ू में श्रीलंका विरोधी प्रदर्शन भी हुए थे.

मछुआरों की गिरफ़्तारी को लेकर भारत और श्रीलंका के बीच पहले भी विवाद होते रहे हैं.

हालांकि श्रीलंका के मछुआरों का कहना है कि भारतीय मछुआरे उनकी जलसीमा में घुस जाते है जिसका असर उनकी जीविका पर पड़ रहा है.

जबकि पिछले महीने दक्षिणी भारत के एक गांव के लोगों ने श्रीलंका की नौसेना पर दो भारतीयों की हत्या का इल्ज़ाम लगाया था.

समस्या के निपटारे के लिए दोनों देशों ने एक संयुक्त कार्यदल भी तैयार किया है.

भारतीय समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार भारत के विदेश मंत्री एसएम कृष्णा ने इन मछुआरों को छोड़ने के फ़ैसले पर श्रीलंका की सरकार का शुक्रिया अदा किया है और साथ ही भारतीय मछुआरों से अपील भी की है कि वे श्रीलंका की जलसीमा में घुसने से परहेज़ करें.

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार