काबुल:आठ नेटो सैनिकों की मौत

काबुल हवाई अड्डा इमेज कॉपीरइट AP
Image caption काबुल हवाई अड्डे पर तैनात एक अफ़ग़ान सैनिक

अफ़ग़ानिस्तान में रक्षा मंत्रालय का कहना है कि अफ़गा़न वायु सेना के एक पायलट ने काबुल हवाई अड्डे पर फ़ायरिंग की है जिसमें आठ नेटो सैनिकों समेत कई लोगों के मारे जाने की आशंका है.

रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता के अनुसार फ़ायरिंग की घटना स्थानीय समयानुसार सुबह 11 बजे के आस पास हुई.

इस गोलीबारी में आठ नेटो सैनिक और एक कॉन्ट्रैक्टर की मौत हो गई है. सैनिकों की जवाबी कार्रवाई में पायलट की भी मौत हो गई है.

नेटो के प्रवक्ता ने भी फ़ायरिंग और उसमें लोगों के मारे जाने की पुष्टि कर दी है.

अफ़ग़ानिस्तान में अंतरराष्ट्रीय गठबंधन सेना के प्रवक्ता मेजर टिम जेम्स ने घटना की जानकारी देते हुए कहा,''हमलोग इस बात की पुष्टि कर सकते हैं कि इस घटना के दौरान छोटे हथियार से फ़ायरिंग हुई थी और हमें इस बात की भी जानकारी है कि इसमें गठबंधन सेना के कुछ लोग मारे गए हैं.''

प्रवक्ता ने कहा कि उन्हें विश्वास है कि फ़ायरिंग की घटना समाप्त हो गई है लेकिन वो ये नहीं जानते कि फ़ायरिंग की शुरुआत कैसे हुई.

अफ़ग़ान सुरक्षा के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बीबीसी को बताया कि फ़ायरिंग करने वाले पायलट का नाम गुल अहमद है और वो काबुल के ताराख़ेल इलाक़े के रहने वाले थे.

तालिबान

इस घटना के कुछ चश्मदीदों ने सायरन की आवाज़ सुनने और हवाई अड्डे के नज़दीक़ भारी संख्या में सुरक्षा बलों की मौजूदगी का दावा किया.

समाचार एजेसी एपी को भेजे गए संदेश में तालिबान ने घटना की ज़िम्मेदारी ली है लेकिन अफ़ग़ानिस्तान सरकार के किसी अधिकारी ने अभी तक इसे चरमपंथी कार्रवाई नहीं कहा है.

संवाददाताओं का कहना है कि अफग़ान सेना में भारी संख्या में की जा रही भर्ती के कारण पुलिस और सेना में तालिबान के घुसपैठ करने की आशंका बढ़ गई है.

नेटो सेना के अफ़ग़ानिस्तान छोड़ने से पहले ज़रूरी है कि सुरक्षा की ज़िम्मेदारी धीरे धीरे स्थानीय सैनिकों के हाथों में दे दी जाए.

लेकिन हाल के दिनों में अफ़ग़ान सुरक्षा अधिकारियों ने विदेशी सैनिकों पर कई हमले किए हैं. पिछले साल नवंबर में एक अफ़ग़ान पुलिस अधिकारी ने छह अमरीकी सैनिकों को मार दिया था.

बीबीसी के काबुल संवाददाता क्वेंटीन सौमरविल का कहना है कि विदेशी सैनिक अपने स्थानीय अफ़ग़ान सहयोगियों पर पूरा भरोसा नहीं करते और उनके अनुसार उन्हें अपने सहयोगियों पर भी नज़र रखनी पड़ती है.

संबंधित समाचार