विस्फोट में अफ़ग़ान पुलिस कमांडर की मौत

जनरल दाउद दाउद इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption जनरल दाउद दाउद पहले भी कई अहम पदों पर काम कर चुके थे

अफ़ग़ानिस्तान के तख़र प्रांत के गवर्नर के कार्यालय पर हुए एक आत्मघाती हमले में उत्तरी अफ़ग़ानिस्तान के पुलिस प्रमुख की मौत हो गई है.

पुलिस का कहना है कि जनरल मोहम्मद दाउद दाउद इस हमले में मारे गए सात लोगों में से एक हैं.

इसमें प्रांत के पुलिस प्रमुख शाहजहाँ नूरी भी मारे गए हैं और गवर्नर अब्दुल जब्बार तक़वा ज़ख़्मी हुए हैं.

जनरल दाउद तालिबान से लड़ने वाले नॉर्दन एलायंस के सैन्य कमांडर रह चुके हैं.

नैटो का कहना है कि 'बड़ी संख्या में लोग हताहत हुए हैं' जिसमें पश्चिमी और अफ़ग़ान सेना के सैनिक शामिल हैं.

तालिबान ने ज़िम्मेदारी ली

शनिवार को आत्मघाती हमला उस समय हुआ जब तख़र प्रांत के गवर्नर अब्दुल जब्बार तक़वा अपने तालोक़न स्थित कार्यालय में अधिकारियों की एक बैठक ले रहे थे.

समाचार एजेंसी एएफ़पी ने गवर्नर कार्यालय के प्रवक्ता के हवाले से कहा है कि इस विस्फोट में सात लोगों की मौत हुई है जिसमें तीन जर्मन सैनिक भी शामिल हैं. हालांकि इसकी स्वतंत्र रुप से पुष्टि नहीं हो सकी है.

ये जर्मन सैनिक पास के ही कुंडूज़ प्रांत में तैनात थे और उन पर तख़र की भी ज़िम्मेदारी थी.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption नैटो सेना के प्रमुख कमांडर इस हमले में बच गए

प्रवक्ता के अनुसार मारे गए लोगों में तख़र प्रांत के पुलिस प्रमुख शाहजहाँ नूरी भी शामिल हैं जबकि गवर्नर अब्दुल जब्बार तक़वा इस हमले में ज़ख़्मी हुए हैं.

तालिबान ने इस हमले की ज़िम्मेदारी ली है.

नैटो के प्रवक्ता के अनुसार उत्तरी अफ़ग़ानिस्तान में तैनात विदेशी फ़ौजों के प्रमुख भी विस्फोट के समय इस परिसर में मौजूद थे लेकिन वे बच गए हैं.

विदेशी फ़ौजों के लिए झटका

अफ़ग़ानिस्तान में हाल के दिनों में चरमपंथियों ने सेना और पुलिस को लगातार निशाना बनाया है.

लेकिन शनिवार को हुए हमले की अपनी अलग अहमियत है क्योंकि वह देश के उत्तरी इलाक़े में हुआ है जिसे अपेक्षाकृत सुरक्षित माना जाता है.

काबुल में बीबीसी के संवाददाता पॉल वुड का कहना है कि यह हमला तालिबान इसे जीत की तरह प्रचारित करेंगे जबकि उनसे लड़ रही फ़ौजों के लिए यह एक बड़ा झटका है.

जनरल दाउद उत्तरी अफ़ग़ानिस्तान में आतंरिक सुरक्षा मंत्रालय के अंतर्गत आने वाले सारे सुरक्षा बलों के प्रभारी थे.

उन्होंने नॉर्दन एलायंस के प्रमुख रहे अहमद शाह मसूद के अंगरक्षक के रुप में भी काम किया था और वे नशीली दवा के मामलों के उपमंत्री भी रह चुके थे.

बीबीसी संवाददाता का कहना है कि जनरल दाउद तालिबान के फिर से सक्रिय होने के बाद से मारे जाने वालों में सबसे वरिष्ठ अधिकारी भी हैं.

संबंधित समाचार