अफ़ग़ानिस्तान में विस्फोट, सात की मौत

तालिबान
Image caption तालिबान ने कपिसा के हमले की ज़िम्मेदारी स्वीकार ली है

अफ़ग़ानिस्तान के गृहमंत्रालय के अनुसार विस्फोटकों से भरी एक कार में सवार एक आत्मघाती हमलावर ने कम से कम सात लोगों की जान ले ली है.

ये घटना राजधानी काबुल के उत्तर पूर्व में स्थित कपिसा प्रांत में हुई है.

प्रांत के प्रवक्ता हलीम अयार ने समाचार एजेंसी एपी को बताया कि गवर्नर अज़ीज़ुल रहमान तवाब के कार्यालय से क़रीब 200 मीटर दूर अपने आपको उड़ा लिया.

इस बीच उप राष्ट्रपति करीम ख़लीली और गृहमंत्री बेसमुल्लाह मोहम्मदी एक रॉकेट हमले में बच गए हैं.

अधिकारियों का कहना है कि ये घटना उस समय हुई जब ये अधिकारी वारदाक प्रांत में एक पुलिस ट्रेनिंग सेंटर के दौरे पर थे.

संवाददाताओं का कहना है कि दोनों हमले लगभग एक ही समय में हुए हैं और इससे यह अंदाज़ा होता है कि चरमपंथी पूरे देश में बदले की कार्रवाई कर सकते हैं.

निशाने पर थे राजदूत

प्रवक्ता अयार का कहना है कि कपिसा में मारे गए लोगों में से चार पुलिस अधिकारी हैं और शेष नागरिक हैं.

इस घटना में कम से कम सात लोग घायल हुए हैं और वे सब भी सामान्य नागरिक हैं.

गृहमंत्रालय ने अपने एक बयान में कहा है, "अफग़ानिस्तान का गृहमंत्रालय इस अमानवीय और कायराना आत्मघाती हमले की निंदा करता है. ऐसे हमलों से अफ़ग़ान नेशनल पुलिस के मनोबल को प्रभावित नहीं किया जा सकता."

उधर तालिबान के प्रवक्ता ज़बिबुल्लाह मुजाहिद ने समाचार एजेंसी एएफ़पी से कहा है कि कपिसा में किया गया हमला उन्होंने किया है.

उनका कहना है कि उनके निशाने पर अफ़ग़ानिस्तान में फ़्रांस के राजदूत और उसके सैनिक थे, जो उस वक्त गवर्नर से मिलने पहुँचे हुए थे.

फ़्रांसिसी राजदूत बर्नार्ड बाजोलेट ने समाचार एजेंसी एएफ़पी से कहा है कि जब ये हमला हुआ तो वे गर्वनर कार्यालय से 15 मिनट की दूरी पर थे.

उनका कहना है कि उनकी इस यात्रा के बारे में जानकारी सार्वजनिक थी.

संबंधित समाचार