हामिद करज़ई के वरिष्ठ सलाहकार की हत्या

जान मोहम्मद ख़ान(फ़ाईल फ़ोटो) इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption जान मोहम्मद ख़ान को राष्ट्रपति करज़ई का बहुत क़रीबी समझा जाता था.

अफ़ग़ानिस्तान के राष्ट्रपति हामिद करज़ई के एक वरिष्ठ सलाहकार जान मोहम्मद ख़ान की रविवार देर शाम राजधानी काबुल में गोली मार कर हत्या कर दी गई.

अफ़ग़ान पुलिस के अनुसार कुछ अज्ञात बंदूक़धारी उनके काबुल स्थित घर में घुस आए और गोलियां चलानी शुरू कर दी. इस गोलीबारी में जान मोहम्मद के अलावा एक सांसद हशाम अटनवाल की भी मौत हो गई.

इस ताज़ा घटना से लगभग एक हफ़्ता पहले ही राष्टपति करज़ई के भाई अहमद वली करज़ई की हत्या कर दी गई थी.

पिछले सप्ताह अहमद वली करज़ई को उनके ही अंगरक्षकों ने कंधार प्रांत में गोली मार कर उनकी हत्या कर दी थी.

पुलिस प्रमुख ने कहा कि जान मोहम्मद ख़ान पर हमले के बाद सुरक्षा बलों और बंदूकधारियों के बीच गोलीबारी होती रही.

गृह मंत्रालय के प्रवक्ता सिद्दीक़ सिद्दीक़ ने कहा कि इस हमले में कम से कम दो बंदूक़धारी शामिल थे और उनके अनुसार हमला स्थानीए समयानुसार शाम आठ बजे शुरू हुआ था.

जान मोहम्मद ख़ान, उरूज़गान प्रांत के पूर्व गवर्नर रह चुके हैं और उन्हें राष्ट्रपति करज़ई के बहुत क़रीबी माना जाता था.

एक वरिष्ठ सरकारी अधिकारी ने समाचार एजेंसी एएफ़पी को बताया, ''वो(जान मोहम्मद ख़ान) अहमद वली करज़ई के जितना महत्वपूर्ण थे.''

इससे पहले रविवार को नैटो ने काबुल के पश्चिम में स्थित बामियान प्रांत का नियंत्रण अफ़ग़ान सेना के हवाले कर दिया.

मार्च में राष्ट्रपति करज़ई के ज़रिए घोषणा किए गए योजना के मुताबिक़ बामियान उन सात प्रांतों में से एक है जिनका नियंत्रण नैटो से हटाकर स्थानीय सेना को दिया जाएगा.

संबंधित समाचार